पेड़ा, दूध, हल्दी और तेल प्रयोगशाला में हुए फेल, जानें वजह

- मिलावटखोरी अभियान, उपभोक्ताओं ने भी खाद्य सामग्रियों की जांच में दिखाई रुचि

By: Dinesh Sahu

Published: 29 Dec 2020, 11:43 AM IST

छिंदवाड़ा/ मिलावखोर अभियान के तहत सोमवार को चलित प्रयोगशाला में छिंदवाड़ा नगरीय क्षेत्र के कुल 148 खाद्य सामग्रियों की जांच की गई, जिनमें पांच के सैम्पल फेल पाए जाने पर 4 के खिलाफ धारा-32 के तहत कार्रवाई प्रस्तावित की गई है। जबकि एक का लीगल सैम्पल जांच उच्चस्तरीय जांच के लिए लिया गया है। फेल सैम्पलों में पेड़ा, दो प्रतिष्ठान से दूध, एक हल्दी पावडर तथा एक खाद्य तेल शामिल है।

इतना ही नहीं नगर के चार उपभोक्ताओं ने भी शुद्धता का परीक्षण के लिए चार संदिग्ध खाद्य सामग्री की जांच कराई, जिनमें दो प्रतिष्ठान का दूध, एक हल्दी पावडर तथा एक दही का सैम्पल शामिल है। चलित प्रयोगशाला में कैमिस्ट अरुण सिंह राजपूत, सहायक नितीश कुमार साहू समेत खाद्य सुरक्षा अधिकारी गोपेश मिश्रा, पुरुषोत्तम भंडुरिया, मीना कुमरे, कमलेश दियावार, महेंद्र परते व सहायक राजकुमार सनोडिय़ा मौजूद थे।


इन क्षेत्रों में घूमी प्रयोगशाला -


खाद्य सुरक्षा विभाग की चलित प्रयोगशाला की सूचना मिलते ही व्यापारियों में भय का माहौल निर्मित हो गया, जिसकी वजह से कुछ लोगों ने अपनी दुकानें भी बंद रखी। बताया जाता है कि चलित प्रयोगशाला खजरी चौक, कलेक्टे्रड के समीप, ईमलीखेड़ा चौक, चंदनगांव चौक, चित्रकुट कॉम्प्लेक्स, फव्वारा चौक, सत्कार तिराहा, गांधी गंज तथा पुलिस लाइन क्षेत्र में पहुंची थी।


एसडीएम ने किया निरीक्षण


चलित प्रयोगशाला की व्यवस्थाओं का जायजा लेने एसडीएम अतुल सिंह भी पहुंचे तथा उन्होंने लैब में खाद्य सामग्रियों की जा रही जांच और रिपोर्टिंग व्यवस्था का परीक्षण किया। साथ ही व्यापारियों और प्रशासकीय कार्यों में उचित समन्वय के साथ कार्य करने समेत किसी को कोई शिकायत होने पर समाधान करने के निर्देश भी दिए।

COVID-19
Show More
Dinesh Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned