भाजपा के लोकतंत्र सेनानियों को पेंशन मिलेगी तो जरूर लेकिन इस काम के बाद

भौतिक सत्यापन के बाद ही लोकतंत्र सेनानियों को मिल सकेगी पेंशन

By: prabha shankar

Published: 19 Jan 2019, 07:00 AM IST

छिंदवाड़ा. लोकतंत्र सेनानियों को पेंशन अब भौतिक सत्यापन के बाद ही मिल पाएगी। जांच कराने का जिम्मा कलेक्टर का होगा। राज्य शासन के दिशा-निर्देश के बाद कोषालय ने सम्बंधित बैंकों को इसका पत्र लिख दिया है।
शिवराज सरकार के समय से जिले के 118 लोकतंत्र सेनानी और उनके परिजन को 25 हजार रुपए मासिक पेंशन मिल रही है। इन लोगों ने आपातकाल के समय लोकतंत्र को बचाने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका अदा की थी। दिसम्बर माह तक इन्हें नियमित पेंशन का भुगतान किया जाता रहा है। जनवरी माह की पेंशन के संदर्भ में राज्य शासन के यह निर्देश आए हैं कि पहले लोकतंत्र सेनानियों का वेरिफिकेशन कराया जाए। फिर उनकी पेंशन का भुगतान किया जाए। कोषालय अधिकारी अरुण वर्मा का कहना है कि शासन के दिशा-निर्देश पर बैंकों को पेंशन वेरीफिकेशन के बाद ही भुगतान करने के लिए पत्र लिखा गया है।

चुनाव के बाद छाया था सेनानियों का मुद्दा
कांग्रेस सरकार के अस्तित्व में आने के बाद से ही लोकतंत्र सेनानियों को पेंशन का मुद्दा गरमाता रहा। यह पेंशन बंद करने की अटकलों के बीच लोकतंत्र सेनानी संघ द्वारा इस पर एक ज्ञापन भी सौंपा गया था। इस बीच राज्य शासन के आदेश से यह साफ है कि लोकतंत्र सेनानियों की पेंशन बंद नहीं होगी। केवल उनका वेरिफिकेशन होगा।

prabha shankar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned