उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन के पूर्व गोपनीयता पर खड़े हो रहे सवाल, जानिए क्या है मामला

नए आदेश के बाद उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन के पूर्व गोपनीयता पर कई सवाल खड़े हो गए हैं। आखिर ऐसा क्यों किया गया यह समझ से परे है।

छिंदवाड़ा/परासिया /उत्कृष्ट विद्यालय में कक्षा नौवीं एवं ग्यारहवीं की मुख्य परीक्षा की उत्तर पुस्तिकाओं के सीलबंद बंडल को खोलने पर कुछ देर के लिए शिक्षकों के बीच असमंजस की स्थिति उत्पन्न हो गई।
गौरतलब है कि इसके पूर्व शालाओं में परीक्षा के दौरान विद्यार्थियों से जमा किए गए उत्तर पुस्तिकाओं को सीलबंद कर बंडल को शिक्षा विभाग में निर्धारित स्थान पर जमा किया जाता था लेकिन बुधवार को विभिन्न शालाओं से उत्तर पुस्तिकाओं का सीलबंद बंडल लेकर पहुंचे शिक्षकों के सामने उत्कृष्ट विद्यालय में बंडल खोलकर उत्तर पुस्तिकाओं को गिन कर मिलान किया गया। इसके पहले उत्तर पुस्तिकाओं की पूरी गोपनीयता बरती जाती थी।
अधिकारियों ने बताया कि दो दिन पूर्व समस्त प्राचार्य एवं स्थानीय शिक्षा विभाग से जुड़े अधिकारियों को जिला शिक्षा अधिकारी का पत्र प्राप्त हुआ है जिसमें सभी विकास खंड के उत्कृष्ट विद्यालयों में कक्षा नौवीं एवं ग्यारहवीं की मुख्य परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिका का बंडल खुलवा कर उत्तर पुस्तिकाओं की संख्या का मिलान करने के बाद फिर से एक बार सील बंद कर मूल्यांकन के लिए रखा जाएगा।
हालांकि इस नए आदेश के बाद उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन के पूर्व गोपनीयता पर कई सवाल खड़े हो गए हैं। आखिर ऐसा क्यों किया गया यह समझ से परे है।

Show More
Sanjay Kumar Dandale
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned