Railway: रेलवे अधिकारी के पत्र से उम्मीद बरकरार, यात्रियों को मिल सकती है यह सुविधा

छत्तीसगढ़ कोच की सुविधा अस्थाई तौर पर बंद की गई है।

छिंदवाड़ा. मध्य रेलवे द्वारा छिंदवाड़ा से चलने वाली पेचवैंली फास्ट पैसेंजर में छत्तीसगढ़ कोच की सुविधा अस्थाई तौर पर बंद की गई है। यह जवाब दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर जोन के उप मुख्य परिचालन प्रबंधक(यात्री) डॉ. एसएन मुखर्जी ने छिंदवाड़ा के दपूमरे क्षेत्रीय रेलवे उपयोगकर्ता परामर्शदात्री समिति सदस्य सत्येन्द्र ठाकुर को पत्र के माध्यम से दिया है। दरअसल जोनल सदस्य ने जनवरी माह में बिलासपुर में हुए परामर्शदात्री समिति सदस्यों की बैठक में छिंदवाड़ा से संबंधित मुद्दों को उठाया था। जिसका जवाब अब रेलवे के विभिन्न विभाग के उच्च अधिकारियों द्वारा भेजा जा रहा है। छिंदवाड़ा से संबंधित तीन समस्याओं के निराकरण के संबंध में रेलवे उच्च अधिकारी द्वारा जवाब भेजा गया है। जोनल सदस्य ने पहली समस्या उठाती थी कि सुबह पैसेंजर ट्रेन के देरी की वजह से यात्री परेशान हो रहे हैं। इसका निराकरण किया जाए। इस संबंध में रेलवे अधिकारी ने कहा है कि ट्रेनों की समयबद्धता को बनाए रखने के लिए मंडल से समय-समय पर दिशा-निर्देश जारी किया जाता है। मुख्यालय एवं मंडल स्तर पर निरीक्षण द्वारा ट्रेनों के परिचालन पर निगरानी रखी जाती है। हां यह जरूर है कि एक्सप्रेस ट्रेनों के विलंब होने पर पैसेंजर ट्रेनों से पहले इन्हें प्राथमिकता दी जाती है। गौरतलब है कि आए दिन भंडारकुंड-बैतूल पैसेंजर को पातालकोट एक्सप्रेस को प्राथमिकता देने के चलते दो से तीन घंटे छिंदवाड़ा स्टेशन में खड़ा रखा जाता है। ऐसे में पैसेंजर ट्रेन में बैठे यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। अक्सर यात्री इस संबंध में स्टेशन प्रबंधक से नाराजगी भी जताते हैं। इसके बावजूद भी सुधार नहीं हो रहा है।

दतिया रेलवे स्टेशन पर एक्सप्रेस का स्टापेज क्षेत्राधिकार नहीं
जोनल सदस्य ने पातालकोट एक्सप्रेस का दतिया शक्ति पीठ में दो मिनट का स्टापेज करने की मांग की थी। रेलवे अधिकारी ने इस बिन्दु पर कहा है कि यह उनका अधिकार क्षेत्र नहीं है। दतिया रेलवे स्टेशन उत्तर मध्य रेलवे के क्षेत्र में आता है। उत्तर मध्य रेलवे ही एक्सप्रेस के दतिया में स्टापेज को लेकर निर्णय लेगी।


रेलवे अधिकारी नहीं कर रहे स्थिति स्पष्ट
दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर में बीते माह महाप्रबंधक की अध्यक्षता में परामर्शदात्री समिति सदस्यों की बैठक आयोजित की गई थी। जिसमें रेलवे बोर्ड द्वारा लिंक कोच की व्यवस्था खत्म होने की बात कही थी। वहीं अब रेलवे अधिकारियों द्वारा कहा जा रहा है कि अमृतसर कोच की सुविधा अभी अस्थाई तौर पर बंद किया गया है। ऐसे में अभी भी कोच को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं है।

रेल मंत्री को लिखेंगे पत्र
दो साल पहले भी छिंदवाड़ा से अमृतसर कोच बंद करने को लेकर प्रक्रिया शुरु हुई थी। स्थानीय जनप्रतिनिधियों के सहयोग से मैंने इस पर रोक लगवाई थी। छत्तीसगढ़ राज्यपाल से इस संबंध में चर्चा करूंगा। अमृतसर कोच को बंद न करने के लिए प्रधानमंत्री एवं रेल मंत्री को पत्र लिखेंगे।
सत्येन्द्र ठाकुर, जोनल सदस्य, दपूमरे

ashish mishra Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned