scriptRAILWAY: Railway employees forced to live in 100 years old house | RAILWAY: 100 साल पुराने मकान में रहने मजबूर रेलवे कर्मचारी, स्टेशन में समस्याओं का अंबार | Patrika News

RAILWAY: 100 साल पुराने मकान में रहने मजबूर रेलवे कर्मचारी, स्टेशन में समस्याओं का अंबार

वरिष्ठ रेल अधिकारी ध्यान दे रहे हैं।

छिंदवाड़ा

Published: August 01, 2022 02:04:50 pm


छिंदवाड़ा. रेलवे कॉलोनी में लोग समस्याओं के बीच जीवन-यापन कर रहे हैं। मूलभूत सुविधाएं ही रेलवे के कर्मचारियों को नहीं मिल पा रही है। कॉलोनी में अधिकतर मकान की उम्र 100 वर्ष से अधिक की हो चुकी है। मकान जर्जर हो चुके हैं। मेंटनेंस भी कभी कभार हो रहा है। ऐसे में बारिश के समय इन मकानों में रहने वाले कर्मचारी के परिवारों को दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। छत से बारिश की बूंदें टकपती हैं। घरों में आए दिन पानी भर जाता है। यह समस्या वर्षों से बनी हुई है जिस पर न ही संबंधित रेलवे विभाग और न ही वरिष्ठ रेल अधिकारी ध्यान दे रहे हैं। ऐसे में रेलवे के कर्मचारी जर्जर मकानों में रहने को मजबूर हैं। इसके अलावा कॉलोनी में बड़ी-बड़ी घास है। जीव-जन्तुओं का भी खतरा रहता है। सफाई व्यवस्था के नाम पर खानापूर्ति की जा रही है। रेलवे कॉलोनी में अधिकतर जगह सडक़ों का भी पता ही नहीं है। जहां है वहां गड्ढ़े ही गड्ढ़े हैं। कॉलोनी में बच्चों के लिए पार्क तो है, लेकिन वह भी बदहाल है। शिक्षा की बात करें तो कुछ वर्ष पहले तक प्लेटफॉर्म नंबर-4 के पीछे रेलवे स्कूल था। शिक्षक भी रेलवे विभाग की तरफ से नियुक्त किए गए थे। लेकिन वह भी बंद हो चुका है। इसकी वजह बेहतर शैक्षणिक व्यवस्था न होना बताया जा रहा है। स्वास्थ्य की बात करें तो रेलवे कर्मचारियों एवं उनके परिजनों के लिए रेलवे अस्पताल खोला गया है। जहां अस्थाई डॉक्टर की नियुक्ति है। अस्पताल में सामान्य मरीजों को ही देखा जाता है। रेलवे के पेंशनर्स काफी समय से कार्यालय की मांग कर रहे हैं। उम्मीद है कि डीआरएम सभी समस्याओं से निजात दिलाएंगे।
RAILWAY: 100 साल पुराने मकान में रहने मजबूर रेलवे कर्मचारी, स्टेशन में समस्याओं का अंबार
RAILWAY: 100 साल पुराने मकान में रहने मजबूर रेलवे कर्मचारी, स्टेशन में समस्याओं का अंबार

लाखों रुपए का शौचालय बेकार
रेलवे स्टेशन परिसर में सामान्य के साथ रिजर्वेशन काउंटर भी खुला हुआ है। यहां आने वाले लोगों को काफी समस्या होती थी। ऐसे में रेलवे ने स्टेशन परिसर में ही पे एंड यूज शौचालय बनवाया। लगभग पांच माह पहले टॉयलेट बनकर तैयार हो चुका है। इसके बावजूद भी लोगों को सुविधा नहीं मिल पा रही है। इसकी वजह यह है कि टॉयलेट के लिए अभी टेंडर होना है। वहीं स्टेशन में एटीएम की भी व्यवस्था नहीं है। वहीं अब तक रेलवे स्टेशन भी पूरी तरह से कवर्ड नहीं हुआ है। ट्रेन के आने पर टीटी मुख्य गेट पर यात्रियों को टिकट चेक करते हैं। जबकि अधिकतर यात्री स्टेशन के अन्य रास्तों से बाहर निकल जाते हैं।
चार फाटक बंद होने से भी दिक्कत
रेलवे चार फाटक पर अधिकारियों द्वारा वर्षों पहले की गई बड़ी तकनीकी खामी की वजह से लोग जूझ रहे हैं। दरअसल स्टेशन पर आने वाली ट्रेन को वापस परासिया की तरफ भेजने के लिए इंजन को घुमाना पड़ता है। यानी जितनी बार ट्रेन आएगी और जाएगी उतनी बार चार फाटक तो बंद होगा ही इसके साथ ही इंजन को भी घुमाने के लिए चार फाटक बंद करना होता है। इस खामी की वजह से दिन भर में 15 से 20 बार फाटक बंद करना पड़ता है। ऐसे में मांग यह की जा रही है कि रेलवे सिग्नल को ओवरब्रिज के शुरुआती जगह पर लगाया जाए जिससे लोगों को पहले ही चार फाटक बंद होने का पता चल जाए और वे ओवरब्रिज के रास्ते ही आवागमन करें।
प्लेटफॉर्म पर नजदीक फूट ओवरब्रिज भी नहीं
प्लेटफॉर्म नंबर-एक पर फूटओवरब्रिज बनाया गया है जो तीन एवं चार नंबर प्लेटफॉर्म पर जाता है। हालांकि ओवरब्रिज स्टेशन के प्रवेश द्वार से लगभग 800 मीटर आगे है। जबकि स्टेशन के प्रवेश द्वार के पास ही फूटओवरब्रिज होना चाहिए। एक से दूसरे प्लेटफॉर्म पर जाने के लिए पैदल पथ भी काफी दूर है। बताया जाता है कि फूटओवरब्रिज पास हुआ था लेकिन वह जमीनी हकीकत नहीं ले पाया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद बोले तेजस्वी यादव- 'नीतीश जी का हमसे हाथ मिलाना BJP के मुंह पर तमाचे की तरह''स्मोक वार्निंग' के कारण मालदीव जा रही 'गो फर्स्ट' की फ्लाइट की हुई कोयंबटूर में इमरजेंसी लैंडिंगHimachal Pradesh News: रामपुर के रनपु गांव में लैंडस्लाइड से एक महिला की मौत, 4 घायलMaharashtra Politics: चंद्रशेखर बावनकुले बने महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष, आशीष शेलार को मिली मुंबई की कमानममता बनर्जी को बड़ा झटका, TMC के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पवन वर्मा ने पार्टी से दिया इस्तीफामाकपा विधायक ने दिया विवादित बयान, जम्मू-कश्मीर को बताया 'भारत अधिकृत जम्मू-कश्मीर'गुजरात चुनाव से पहले कांग्रेस का बड़ा ऐलान, सरकार बनी तो किसानों का तीन लाख तक का कर्ज होगा माफBJP का महागठबंधन पर बड़ा हमला, सांबित पात्रा बोले- नीतीश-तेजस्वी के साथ आते ही बिहार में जंगलराज शुरू
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.