Railway: गेज कन्वर्जन विभाग को सीआरएस के पत्र का इंतजार

सीआरएस के निरीक्षण को लेकर संभावित तिथि जारी की गई है।

By: ashish mishra

Updated: 01 Aug 2020, 12:23 PM IST

छिंदवाड़ा. भंडारकुंड से भिमालगोंदी रेलमार्ग के निरीक्षण को लेकर अभी गेज कन्वर्जन विभाग के पास सीआरएस कार्यालय से पत्र जारी नहीं किया गया है। विभाग के अधिकारियों का कहना है कि दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे द्वारा 12 अगस्त को सीआरएस के निरीक्षण को लेकर संभावित तिथि जारी की गई है। उसके अनुसार हमलोग तैयारी कर रहे हैं। हालांकि अभी सीआरएस कार्यालय से पत्र का इंतजार है। गौरतलब है कि दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे नागपुर मंडल के अंतर्गत छिंदवाड़ा से नागपुर रेल परियोजना में अंतिम खंड भंडारकुंड से भिमालगोंदी रेलमार्ग का निरीक्षण को लेकर बिलासपुर मुख्यालय द्वारा 22 जुलाई को सभी संबंधित विभाग को पत्र जारी किया गया है। जिसमें 12 अगस्त को कलकत्ता से कमिश्नर ऑफ रेलवे सेफ्टी(सीआरएस) के भंडारकुंड से भिमालगोंदी के निरीक्षण की संभावित तिथि का जिक्र है। पत्र में सीआरएस के निरीक्षण को लेकर मिनट टू मिनट कार्यक्रम जारी किया गया है। जिसके अनुसार 12 अगस्त को सुबह सीआरएस इतवारी से भंडारकुंड पहुंचेंगे। इस दिन सुबह 9 से दोपहर 1.30 बजे तक वह मोटर ट्राली से भंडारकुंड से भिमालगोंदी के बीच किए गए गेज कन्वर्जन के कार्यों की सघनता से जांच करेंगे। इसके बाद दोपहर 1.30 बजे वह अधिकारियों से चर्चा करेंगे। इसी दिन दोपहर तीन बजे वह भिमालगोंदी से भंडारकुंड तक स्पीड ट्रायल करेंगे। स्पीड ट्रायल करने के बाद सीआरएस शाम 3.45 बजे भंडारकुंड से इतवारी के लिए रवाना हो जाएंगे।

अधिकारियों के भी हो रहे दौरे
सीआरएस के संभावित तिथि को लेकर भंडारकुंड से भिमालगोंदी रेलमार्ग पर गेज कन्वर्जन विभाग एवं रेलवे के अन्य संबंधित विभाग के अधिकारी भी लगातार दौरा कर रहे हैं। जिससे रेलमार्ग पर अगर कोई कमी हो तो वह समय रहते दूर कर लिया जाए एवं सीआरएस को निरीक्षण के दौरान कोई खामी न मिले।

चार खंड में हुआ छिंदवाड़ा-नागपुर रेलमार्ग का कार्य
छिंदवाड़ा से नागपुर रेल परियोजना में रेलमार्ग और विद्युत कार्य चार खंडों में किया गया है। इसमें पहला खंड छिंदवाड़ा से भंडारकुंड, दूसरा खंड इतवारी से केलोद, तीसरा खंड केलोद से भिमालगोंदी और चौथा खंड भंडारकुंड से भिमालगोंदी का है। तीन खंड में विद्युतिकरण एवं रेलमार्ग का कार्य पूरा हो चुका है और सीआरएस के अप्रूवल के बाद इलेक्ट्रिक इंजन से ट्रेनों का परिचालन भी किया जा रहा है। वहीं अंतिम खंड भंडारकुंड से भिमालगोंदी कुल 20 किमी रेलमार्ग घाट सेक्शन में है। इस सेक्शन में रेलमार्ग का कार्य भी पूरा हो चुका है। सीआरएस के निरीक्षण न होने से इस रेलमार्ग पर ट्रेनों का परिचालन नहीं किया जा रहा है।

ashish mishra Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned