Railway: दिसंबर तक पूरा होगा इस रेलमार्ग परियोजना का कार्य, यह है बड़ी वजह

बारिश भी कार्यों में रूकावट बन रही है।

By: ashish mishra

Updated: 29 Jun 2020, 01:38 PM IST

छिंदवाड़ा. पहले बजट और फिर अब कोरोना वायरस की वजह से मजदूरों की कमी ने छिंदवाड़ा-नैनपुर-मंडला फोर्ट रेल परियोजना में ग्रहण लगा दिया है। इसके अलावा बारिश भी कार्यों में रूकावट बन रही है। समस्याओं को देखते हुए गेज कन्वर्जन विभाग ने परियोजना का पहला खंड छिंदवाड़ा से चौरई रेलमार्ग का कार्य पूरा करने का लक्ष्य अब दिसंबर माह तय कर दिया है। अधिकारियों का कहना है कि वर्तमान में मजदूरों की कमी की वजह से परेशानी हो रही है। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराना भी चुनौती है। बारिश की वजह से भी कार्यों में दिक्कत हो रही है। इन सभी समस्याओं को देखते हुए परियोजना के कार्य में अब थोड़ा विलंब होगा। गौरतलब है कि बीते वर्ष बजट के अभाव में परियोजना के कार्य ठप हो गए थे। गेज कन्वर्जन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि रेल बजट में परियोजना के लिए 200 करोड़ रुपए प्रस्तावित किए गए थे। यह पैसा हमें अप्रैल माह में मिल चुका है। परियोजना के लिए हमारे पास प्रर्याप्त बजट है।

जुलाई माह में शुरु होगी पटरी लिंकिंग
ेगेज कन्वर्जन विभाग के अधिकारी के अनुसार छिंदवाड़ा से नैनपुर के बीच पहला खंड छिंदवाड़ा से चौरई(36 किमी) रेलमार्ग को पहले पूरा किया जाएगा। इस मार्ग पर पटरी बिछाने के लिए टेंडर प्रक्रिया भी पूरी हो चुकी है। पटरी भी आ चुकी है। जुलाई माह में पटरी बिछाने और लिकिंग का कार्य शुरु किया जाएगा। कार्य पूरा होने में तीन से चार माह लगेंगे। दिसंबर में सीआरएस कराने का लक्ष्य रखा गया है। सीआरएस के अप्रूवल मिलने के बाद इस रेलमार्ग पर ट्रेन का परिचालन शुरु हो जाएगा। इसके बाद दूसरा खंड नैनपुर से पलारी (36 किमी) रेलमार्ग कार्य को पूरा किया जाएगा।

जबलपुर से नैनपुर तक चल रही ट्रेन
जबलपुर से नैनपुर तक रेलमार्ग का कार्य पूरा हो चुका है। इस रेलमार्ग पर ट्रेन का परिचालन भी किया जा रहा है। जबकि नैनपुर से छिंदवाड़ा तक गेज कन्वर्जन विभाग द्वारा चार खंडों में कार्य किया जा रहा है। इसमें पहला खंड छिंदवाड़ा से चौरई(लगभग 35 किमी), दूसरा खंड पलारी से नैनपुर(लगभग 36 किमी), तीसरा खंड सिवनी से पलारी(लगभग 35 किमी), चौथा खंड चौरई से सिवनी (लगभग 30 किमी) तक है। चारों ही खंड में रेलमार्ग का कार्य गेज कन्वर्जन विभाग द्वारा टेंडर प्रक्रिया से अगल-अलग निर्माण एजेंसी द्वारा कराया जा रहा है। वर्ष 2019 में गेज कन्वर्जन विभाग ने छिंदवाड़ा से नैनपुर तक कार्य पूरा करने का लक्ष्य मार्च 2020 रखा था, लेकिन बजट रोड़ा बन गई। वर्तमान में भी कार्य धीमी गति से ही हो रहे हैं। ऐसे में दिसंबर 2021 से पहले छिंदवाड़ा से जबलपुर तक सीधे ट्रेन की सुविधा मिलना मुश्किल है।


इनका कहना है...
रेल परियोजना के लिए बजट प्रर्याप्त है। वर्तमान में बारिश और मजदूरों की कमी की वजह से कार्यों की रफ्तार धीमे हैं। छिंदवाड़ा से चौरई रेलमार्ग का कार्य दिसंबर तक पूरा करने का लक्ष्य है।
मनीष लावनकर, डिप्टी सीई, रेल गेज कन्वर्जन विभाग

ashish mishra Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned