Movement: किसानों ने किया कलेक्ट्रेट का घेराव, मांगा न्याय

मोहगांव: जलाशय निर्माण में मुआवजा नहीं दिए जाने का मुद्दा उठाया

By: prabha shankar

Published: 10 Sep 2021, 11:18 AM IST

छिंदवाड़ा। सौंसर के समीप मोहगांव जलाशय से जुड़े ग्रामों के पीडि़त किसानों ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर प्रशासन का घेराव किया और उचित मुआवजा देने की मांग की। किसानों ने बताया कि वह पिछले 61 दिनों से निर्माण स्थल पर धरना दे रहे हैं। इसमें प्रशासन की ओर से पीडि़त किसानों के साथ संवाद किया गया। एसडीएम द्वारा किसानों से मिलकर 11 सूत्री मांगों का निराकरण करने की बात कही।
एसडीएम द्वारा एक सर्वे टीम का गठन करना भी बताया गया। इस पर किसानों की मांगों पर अभी तक प्रदेश सरकार की ओर से कोई उचित जवाब नहीं मिला है। किसानों का कहना है कि नए भू अर्जन अधिनियम 2013-14 के अनुसार नगरीय क्षेत्र की गाइडलाइन का 2 गुना मुआवजा नहीं दिया गया है। इसी तरह उन्होंने कृषि किसानों की सिंचित जमीन को सिंचित करने, किसानों की परिसंपत्तियों को छोडऩे, स्टाम्प शुल्क में छूट नहीं देने, विस्थापन में अनियमितता और डूब क्षेत्र की किसानों की जमीन को छोडऩे के आरोप लगाए हैं। कलेक्टर से अपनी समस्या का निराकरण करने की मांग की है।

कौआखेड़ा के सहायक सचिव पर कार्रवाई के लिए भटक रहे ग्रामीण
चांद के समीप ग्राम पंचायत कौआखेड़ा के सहायक सचिव गजेन्द्र विश्वकर्मा पर अनियमितता और गड़बड़ी के आरोप लगाने वाले ग्रामीणजन कार्रवाई के लिए भटक रहे हैं। इस पर कई बार ज्ञापन दे चुके हैं, लेकिन जनपद पंचायत चौरई से लेकर जिला पंचायत तक अधिकारी ध्यान नहीं दे रहे हैं। इस पंचायत के रघुराज बनवारी, यीशुनाथ, अनिल लख्खू, दिलीप सुमरन, मोहित जंघेला और अमन मंगरोले ने कलेक्टर के नाम दी शिकायत में बताया कि मोक्षधाम, मुख्य सडक़, नई आबादी रोड, बाढ़ पीडि़त मकान, मजदूर भुगतान में सहायक सचिव द्वारा गड़बड़ी और अनियमितता की गई है। ग्रामीणों ने बताया कि शिकायत करने के बाद भी कार्रवाई न होने से सहायक सचिव के हौसले बुलंद हैं। इससे पहले भी ग्रामीण कलेक्ट्रेट आकर ज्ञापन दे चुके हैं।

prabha shankar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned