scriptRangmanch: The theater workers said this on Theater Day | Rangmanch: रंगमंच दिवस पर रंगकर्मियों ने कह दी यह बात, इसकी है जरूरत | Patrika News

Rangmanch: रंगमंच दिवस पर रंगकर्मियों ने कह दी यह बात, इसकी है जरूरत

मंच पर प्रस्तुत करने की जीवंत विधा है।

छिंदवाड़ा

Published: March 27, 2022 06:39:34 pm

छिंदवाड़ा. रंगमंच जीवन के विविध रंगों को मंच पर प्रस्तुत करने की जीवंत विधा है। रंगमंच पर जब समाज की दशा को जीवंत किया जाता है तो दर्शक उसके साथ आसानी से जुड़ जाता है। रंगमंच समाज का आइना ही नहीं बल्कि परिवर्तन का सशक्त औजार भी है। लंबे समय तक देह, दिल व दिमाग पर मेहनत करने के बाद कलाकार पैदा होता है। और ऐसे ही कई कलाकार हमारे छिंदवाड़ा ने पैदा किए हैं। हमारे जिले के रंगकर्मियों ने राष्ट्रीय स्तर पर धमक जमाई है। इसमें कोई संदेश नहीं कि छिंदवाड़ा में रंगकर्म को काफी सराहा जाता है और भविष्य भी उज्जवल है। यहां न केवल अच्छे कलाकार हैं बल्कि अच्छे दर्शक भी हैं। छिंदवाड़ा रंगमंच के मामले में शानदार और गौरवशाली इतिहास समेटे हुए है। 50 के दशक से शुरु नाटकों का सिलसिला बदस्तुर जारी है। इन सबके बावजूद भी छिंदवाड़ा में सबसे बड़ी जो कमी है वह है ऑडोटोरियम की और रंगकर्मियों के प्रोत्साहन की। आज विश्व रंगमंच दिवस है। हमने जिले के रंगकर्मियों से बातचीत की। उनका कहना था कि शहर में जल्द ही ऑडोटोरियम का निर्माण होना चाहिए। ऑडोटोरियम होगा तो निरंतरता बढ़ेगी और लोग जुड़ते जाएंगे। अच्छे कलाकार के सामने जब रोजी-रोटी का संकट आता है तो वह रंगमंच छोडकऱ नौकरी तरफ बढ़ जाता है। एक रंगकर्मी को सरकार मदद करे तो रंगकर्म खिल जाएगा।
Rangmanch: रंगमंच दिवस पर रंगकर्मियों ने कह दी यह बात, इसकी है जरूरत
Rangmanch: रंगमंच दिवस पर रंगकर्मियों ने कह दी यह बात, इसकी है जरूरत
इनका कहना है...
जिले के साझा रंगकर्म की प्रशंसा देश के प्रतिष्ठित रंगपुरोधाओं ने भी की है, लेकिन आर्थिक अभावों तथा कोरोना काल ने कलाकारों की कमर ही तोडकऱ रख दी है। एक बार फिर खुले मन से समरसता के साथ कार्य करने और मिलजुल कर सर्वसुविधायुक्त रंग भवन की मांग पुन: उठाने की जरूरत है।
विजय आनंद दुबे, वरिष्ठ रंगकर्मी
---------------------------------------
मेरी 22 वर्ष की रंगयात्रा में मैंने ये समझा है कि छिंदवाड़ा में रंगकर्म की असीम संभावनाएं हैं। हमारे शहर की सबसे बड़ी खासियत यहां के कलाप्रेमी हैं जो रंगकर्म के लिए बहुत सहयोगी हैं। प्रशासन की इस विधा के प्रति उदासीनता जरूर चिंता का विषय है। जिस शहर में 50 वर्षों से ज्यादा का रंगकर्म का इतिहास हो वहां ऑडिटोरियम का न होना बेहद दुखद और निंदनीय है। छिंदवाड़ा के रंगकर्मी खुले मैदानों, स्कूलों और पार्को में रिहर्सल और मंचन करने के लिए मजबूर हैं। इन समस्याओं के बाद भी हम सभी रंगकर्मी रंगकर्म की मशाल को जलाए हुए हैं।
सचिन वर्मा, वरिष्ठ रंगकर्मी
---------------------------------

ग्रामणी अचंलों में नाटक प्रस्तुतियों से अहसास हुआ कि यहां रंगमंच की समझ अधिक लोगों में है। संसाधनों की वृद्धि से छिंदवाड़ा रंगमंच को वैश्विक पटल पर प्रस्तुत कर सकते हैं। हम रंगकर्मियों को आवश्यकता है तो बस एक ऑडोटोरियम की और प्रोत्साहन की। यह दोनों मिल जाएंगे तो फिर न केवल राष्ट्रीय स्तर पर बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी हमारे कलाकार प्रतिभा का लोहा मनवाएंगे।
ऋषभ स्थापक, युवा रंगकर्मी

------------------------------------
छिंदवाड़ा रंगमंच के मामले में शानदार और गौरवशाली इतिहास समेटे हुए है। 50 के दशक से शुरु रंगमंच का कारवां लगातार जारी है। इन सबके बावजूद छिंदवाड़ा में ऑडोटोरियम न होना समझ से परे है। अगर प्रशासन रंगकर्मियों को प्रोत्साहित करे और ऑडोटोरियम की सुविधा हो जाए तो फिर रंगकर्म के क्षेत्र में आने वाला कल और भी शानदार होगा।
डॉ. पवन नेमा, वरिष्ठ रंगकर्मी

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: खतरे में MVA सरकार! समर्थन वापस लेने की तैयारी में शिंदे खेमा, राज्यपाल से जल्द करेंगे संपर्क?Maharashtra Political Crisis: एकनाथ शिंदे की याचिका पर SC ने डिप्टी स्पीकर, महाराष्ट्र पुलिस और केंद्र को भेजा नोटिस, 5 दिन के भीतर जवाब मांगाMaharashtra Political Crisis: सुप्रीम कोर्ट से शिंदे खेमे को मिली राहत, अब 12 जुलाई तक दे सकते है डिप्टी स्पीकर के अयोग्यता नोटिस का जवाब"BJP से डर रही", तीस्ता की गिरफ़्तारी पर पिनाराई विजयन ने कांग्रेस की चुप्पी पर साधा निशानाअंबानी परिवार की सुरक्षा को लेकर सुप्रीम कोर्ट कल करेगा सुनवाई, जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर एकनाथ शिंदे ने कहा- यह बालासाहेब के हिंदुत्व और आनंद दिघे के विचारों की जीत हैMaharashtra Political Crisis: शिंदे खेमा काफी ताकतवर, उद्धव ठाकरे के लिए मुश्किल होगा दोबारा शिवसेना को खड़ा करनासचिन पायलट बोले-गहलोत मेरे पितातुल्य, उनकी बातों को अदरवाइज नहीं लेता
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.