Jewelry: डेढ़ करोड़ रुपए के गहने के पीछे की हकीकत

डेढ़ करोड़ रुपए के गहने और 1 लाख 80 हजार 600 रुपए नकदी के साथ पकड़़े गए इंदौर निवासी गिरिराज गुप्ता ने पुलिस की पूछताछ में कई गम्भीर खुलासे किए हैं।

By: babanrao pathe

Updated: 13 Nov 2020, 11:11 AM IST

छिंदवाड़ा. डेढ़ करोड़ रुपए के गहने और 1 लाख 80 हजार 600 रुपए नकदी के साथ पकड़़े गए इंदौर निवासी गिरिराज गुप्ता ने पुलिस की पूछताछ में कई गम्भीर खुलासे किए हैं। आरोपी छिंदवाड़ा, सिवनी और बालाघाट में अवैध तरीके से सोने और चांदी के जेवरात पहुंचता था। कोतवाली पुलिस को बताया कि मार्च 2020 के पहले वह कई बार छिंदवाड़ा में सोने और चांदी के जेवरात सप्लाई करने के लिए आया है।

स्थानीय सराफा व्यापारियों से कुछ माह पहले सम्बंध बिगडऩे के बाद उसने आना बंद कर दिया था। मंगलवार को वह बालाघाट और सिवनी होते हुए छिंदवाड़ा आया और यहां माल खपाने का प्रयास किया। माल की बिक्री होने के बाद वह इंदौर के लिए रवाना हो जाता, लेकिन पुलिस को मुखबिर से पहले ही सूचना मिली चुकी थी, जैसे ही वह बस स्टैंड पर उतरा पुलिस ने उसे दबोच लिया। आरोपी के बैग से पुलिस ने ढाई किलो वजन की ज्वेलरी, 237 ग्राम फाइन सोना और नकदी रुपए बरामद किए हैं। कोतवाली टीआइ मनीषराज भदौरिया ने बताया कि आरोपी इंदौर के सराफा व्यापारी संदीप सोनी का कर्मचारी है। जेवरात और फाइन सोना चोरी का नहीं है, केवल उसे चोरी से बेचा जा रहा है जिसकी वजह टैक्स चोरी सहित अन्य कारण है। आरोपी को सम्बंधी सामग्री के दस्तावेज पेश करने के लिए समय दिया गया था, लेकिन वह दस्तावेज प्रस्तुत नहीं कर पाया जिसके चलते उसके खिलाफ प्रकरण दर्ज कर सेल्स टैक्स और आयकर को सौंप दिया है।

सिवनी में बेचे थे जेवरात
कोतवाली पुलिस की पूछताछ में सामने आया है कि आरोपी ने कुछ जेवरात सिवनी जिले में बेचे थे। बेचे हुए जेवरात की रकम उसके पास से जब्त हुई हैं। हालांकि उसके भी कोई बिल नहीं मिले, केवल आरोपी ने पूछताछ में इस बात को कबूल किया है।

Show More
babanrao pathe Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned