शर्तों के तहत खोले जा सकेंगे आवासीय स्कूल-छात्रावास, जानें वजह

- कलेक्टर सुमन ने जारी किए दिशा-निर्देश

By: Dinesh Sahu

Published: 23 Feb 2021, 11:45 AM IST

छिंदवाड़ा/ कोरोना संक्रमण को ध्यान में रखते हुए शासकीय एवं अद्र्धशासकीय आवासीय विद्यालय एवं छात्रावासों को कक्षा दसवीं एवं बारहवीं के विद्यार्थियों के लिए शासन द्वारा निर्धारित शर्तों के तहत खोले जा सकेंगे। भारत सरकार और राज्य शासन द्वारा दिए गए निर्देशों के परिपालन में कलेक्टर सौरभ कुमार सुमन ने सोमवार को जिला शिक्षा अधिकारी, सहायक आयुक्त आदिवासी विकास, जिला शिक्षा केंद्र के डीपीसी और शासकीय उच्च एवं उमावि के प्राचार्यों को इस संदर्भ में समुचित कार्रवाई सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं।


कलेक्टर सुमन ने बताया कि राज्य शासन द्वारा आवासीय विद्यालय व छात्रावास खोलने के संदर्भ में जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार विद्यार्थी माता-पिता या अभिभावकों की लिखित सहमति के बाद ही आ सकेंगे। आवासीय विद्यालय-छात्रावास की उपस्थिति अनिवार्य नहीं हैं, बल्कि विद्यार्थी ऑनलाइन कक्षाओं का लाभ ले सकेंगे।

वहीं आवासीय स्कूल-छात्रावास में 6 फीट की शारीरिक दूरी, फेस कवर या मॉस्क पहनना अनिवार्य, साबुन से बार-बार हाथ धोना, हैंड सैनिटाइजर का उपयोग, खांसते/छींकते समय नाक और मुंह को कवर करना, बीमार होने पर रिपोर्ट करना, थूकना वर्जित एवं आरोग्य सेतु एप को इन्स्टॉल कर उपयोग करना अनिवार्य रहेगा।


संस्थानों के लिए यह कार्य आवश्यक -


सोडियम हाइपोक्लोराइट से नियमित साफ-सफाई किया जाना, राज्य हेल्पलाइन या स्थानीय हॉस्पिटल के नम्बर प्रदर्शित किया जाना, एयर कंडिशनिंग या वेंटिलेशन के लिए सीपीडब्ल्यूडी के दिशा-निर्देशों का पालन करना, किसी भी स्थिति विद्यार्थी एकत्रित नहीं होंगे, कोई विद्यार्थी, शिक्षक या कर्मचारी बीमार हो तो उनकी उपस्थिति न करते हुए प्रोटोकाल का पालन किया जाना अनिवार्य होगा। वहीं विद्यार्थियों की सुरक्षा व स्वास्थ्य की पूर्ण जिम्मेदारी स्कूल और छात्रावास प्रबंधन की रहेगी।

Dinesh Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned