Review meeting: सिटी बस टर्मिनल का मांगा प्रोजेक्ट, जानकारी न होने पर फटकारा

Review meeting: कलेक्टर ने ली नगर निगम की समीक्षा बैठक: पीएम आवास और स्मार्ट सिटी पर भी उठाए सवाल

By: prabha shankar

Published: 26 Jun 2020, 05:52 PM IST

छिंदवाड़ा/ चीरघर की जमीन पर प्रस्तावित सिटी बस टर्मिनल में किन शर्तों पर जमीन मिली और उसका व्यावसायिक इस्तेमाल की अनुमति है या नहीं, जैसे सवाल गुरुवार को कलेक्टर एवं निगम प्रशासक सौरभ कुमार सुमन से निगम अधिकारियों से किए तो वे कोई जवाब नहीं दे पाए। यही हालत पीएम आवास में 35 करोड़ रुपए के लोन तथा मिनी स्मार्ट सिटी में प्राप्त बजट से अधिक भुगतान के मामले में बनी। इस पर कलेक्टर ने सम्बंधितों को फटकारते हुए पूरे प्रोजेक्ट की रिपोर्ट मांगी।
नगर निगम कार्यालय में हुई बैठक में सिटी बस टर्मिनल का मामला छाया रहा। निर्माण एजेंसी द्वारा निर्माण शुरू करने तथा आपत्तिकर्ताओं द्वारा व्यावसायिक इस्तेमाल पर 38 करोड़ रुपए का भुगतान न होने का सवाल तथा वरिष्ठ कार्यालय से इसकी जांच आने पर कलेक्टर ने इसकी पूछताछ की और पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी। इसी तरह प्रधानमंत्री आवास में 35 करोड़ के लोन और उसे पटाए जाने और स्मार्ट सिटी में अधिक भुगतान के बारे में पूछने पर किसी ने इस पर तत्काल जवाब नहीं दिया। कलेक्टर ने कहा कि उनके सामने हर जानकारी पारदर्शिता के साथ रखी जानी चाहिए।

जामुनझिरी में शिफ्ट होगी कचरा यूनिट
परासिया रोड बर्मन कीजमीन पर स्थित कचरा प्रोसेसिंग प्लांट को तत्काल जामुनझिरी ट्रेचिंग ग्राउण्ड पर शिफ्ट करने के निर्देश कलेक्टर ने दिए। उन्होंने नगर निगम अधिकारियों को
इसके लिए 15 जुलाई तक का समय दिया। कलेक्टर ने एक जुलाई से सिटी बस सर्विसेज शुरू करने की बात भी कहीं।

खासतौर पर ये कहा प्रशासक ने
1. सीवरेज प्रोजेक्ट में सडक़ों पर जलभराव और कीचड़ की शिकायतों का तत्काल निराकरण किया जाए।
2. रेलवे ओवरब्रिज का निर्माण कार्य दिसंबर माह तक पूर्ण हो।
3.सीएम अधोसंरचना सडक़ों का निर्माण गति के साथ किया जाए।
4.शहरी पथ विक्रेताओं के कार्यों का सत्यापन तीन दिन में पूर्ण हो।
5. शहर को जोन में बांटते हुए एक-एक सहायक यंत्री को प्रभारी बनाएं।

Show More
prabha shankar Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned