हर तरफ थी जंग-ए-आजादी की गूंज

हर तरफ थी जंग-ए-आजादी की गूंज
chhindwara

आजादी की कहानी बुजुर्गों की जुबानी

छिंदवाड़ा .वर्ष 1935 का वह दिन आज भी मुझे याद है, जब अंग्रेजों के क्रूर व्यवहार से खून खौल जाता था। घोड़ों की टाप, बूट की आवाज से घर के दरवाजे बंद होने लगते थे।

आए दिन किसी न किसी के साथ उनके द्वारा किया जाने वाला व्यवहार दिल में अंदर तक चोट पहुंचाता था। जितनी तेजी से वे आजादी के सुरों का दमन करना चाहते थे, उतनी ही तेजी से उभर रहा था। यह कहना है चंदनगांव के गांधी चौक में रहने वाले 108 वर्षीय बब्बू यादव (सेवानिवृत्त चौकीदार) का।

बब्बू ने बताया कि अंग्रेजों के सख्त प्रशासन और पहरेदारी के बावजूद युवा क्रांतिकारियों से जुड़ रहे थे। हर तरफ जंगे आजादी की गूंज सुनाई देती थी। युवा खेत-खलिहान और पढ़ाई छोड़कर आजादी की लड़ाई शामिल हो रहे थे।

जीवन के सौ साल पूरे कर चुके बब्बू यादव बताते हैं कि उनके चंदननगर में गोरों की फोर्स तैनात रहती थी। अंग्रेजों के खौफ के सामने चोरी, लूट और डकैती जैसे अपराध नहीं होते थे। घरों में ताला नहीं लगते थे। महिलाएं घर से नहीं निकल पाती थीं।

घरेलू काम से कभी कभार यदि निकलती भी तो घोड़ों की टॉप और गाडि़यों की आवाज सुनकर घर में कैद हो जातीं थीं। बब्बू बताते हैं कि जब गोरों के बढ़ते अत्याचार से पूरे देशभर में क्रांति की बिगुल बजी और लोग जाति, धर्म, ऊंच-नीच की भावना को छोड़कर एक साथ हो गए तो लोगों की एकता के सामने गोरों का बल टूटते गया। 1942 के बाद धीरे-धीरे गोरे अपने देश लौटते गए।

आजादी से पहले भले ही हम गुलामी महसूस करते थे, लेकिन अंगे्रजों के सख्त प्रशासन के कारण चोरी, डकैती, लूट, हत्या जैसे अपराध घटित नहीं होते थे। आंखों में एक सपना था कि आजादी के बाद हमारा देश बदल जाएगा। महिलाएं, बच्चे खुली हवा में सांस लेंगे।

बढ़ती महंगाई, जहां देखो चोरी, डकैती, लूट, भ्रष्टाचार को देखकर आज भी लोग सुकुन से नहीं रह पा रहे हैं। आज हम अंग्रेजों के शासनकाल से ज्यादा गुलाम महसूस कर रहे हैं।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned