क्रांतिकारी सैयद अताउल्लाह शाह ने किया था विभाजन का विरोध

आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर क्रांतिकारी सैयद अताउल्लाह शाह बुखारी की जयंती मदरसा मोहम्मदिया में हर्षोल्लास से मनाई गई । पूर्व प्रिंसिपल साबिर अली ने सैयद अताउल्लाह शाह बुखारी के जीवन संघर्ष के बारे में बताया ।सैयद अताउल्लाह शाह ने जलियांवाला बाग हत्याकांड से प्रभावित होकर राजनीतिक जीवन की शुरुआत की। वे भारत के विभाजन के पक्ष में नहीं थे ।

By: Rahul sharma

Published: 24 Sep 2021, 11:15 AM IST

छिन्दवाड़ा/जुन्नारदेव . आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर क्रांतिकारी सैयद अताउल्लाह शाह बुखारी की जयंती मदरसा मोहम्मदिया में हर्षोल्लास से मनाई गई । इस अवसर पर शासकीय महाविद्यालय की डॉ.संगीता वाशिंगटन ने कहा ऐसे कार्यक्रमों से समाज व देश के खातिर बलिदान देने वाले वीर सपूतों को याद कर पाते हैं । पूर्व प्रिंसिपल साबिर अली ने सैयद अताउल्लाह शाह बुखारी के जीवन संघर्ष के बारे में बताया ।सैयद अताउल्लाह शाह ने जलियांवाला बाग हत्याकांड से प्रभावित होकर राजनीतिक जीवन की शुरुआत की। वे भारत के विभाजन के पक्ष में नहीं थे । मुख्य अतिथि पूर्व भाजपा अध्यक्ष राजेश श्रीवास्तव ने सैयद अताउल्लाह शाह एवं पूर्व उपराष्ट्रपति मोहम्मद हिदायतुल्लाह के जीवन के बारे में विस्तार से बताया। भाजपा के वरिष्ठ नेता विष्णु शर्मा ने राष्ट्रीय एकता पर बल दिया। डुंगरिया के शायर मुबीन खिलजी ने राष्ट्रीय एकता पर कई शेर एवं कविताएं पढ़ी। कार्यक्रम में मुस्लिम विकास परिषद के जिला सचिव हाजी मोहम्मद शाहिद आरके बेग खेल आयोजक, ब्लॉक अध्यक्ष इसाम सिद्दीकी ,रफीक खान राजकुमार यादव ,खालिद खान ,असलम अब्दाली, जहान गुल खान ,नूर मोहम्मद गोशी ,असद उल्लाह खान, एनसीसी कैडेट्स तथा मदरसे के छात्र उपस्थित थे। संचालन मोहम्मद ताहिर एवं जी एस खान ने किया। आभार प्रदर्शन मदरसा मोहम्मदिया के अध्यक्ष मौलाना मोहम्मद आबिद ने व्यक्त किया ।

Rahul sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned