scriptRight to Education: Know which schools do not recruit poor children | Right to Education: जानिए किन स्कूलों में नहीं होती गरीब बच्चों की भर्ती | Patrika News

Right to Education: जानिए किन स्कूलों में नहीं होती गरीब बच्चों की भर्ती

2nd चरण का आवंटन दो अगस्त को, आवंटन में नजदीकी स्कूलों की हो जाती है कमी

छिंदवाड़ा

Published: July 31, 2022 11:09:23 am

छिंदवाड़ा। शिक्षा के अधिकार के अंतर्गत गरीब बच्चों को निजी स्कूलों में एडमिशन दिया जाता है। ऑनलाइन लॉटरी के बाद रिक्त सीटों में से 25 फीसद बच्चों का एडमिशन होता है। ज्यादातर हितग्राही पालक अपने बच्चों को नजदीकी निजी स्कूल में एडमिशन करवाना चाहते हैं, परंतु कई बार उनकी इस मंशा में अनुदान प्राप्त स्कूल बाधक बन जाते हैं।

दरअसल, अनुदान प्राप्त स्कूल सहित प्ले स्कूल एवं अल्पसंख्यक स्कूल आरटीई के तहत भर्ती से छूट पाए हुए हैं। जिले में ऐसे करीब 36 स्कूल हैं, जिन्हें अनुदान मिल रहा है। इनमें से कुछ स्कूल ऐसे भी हैं जो अल्पसंख्यक स्कूलों का दर्जा हासिल करने के बाद बहुसंख्यक विद्यार्थियों की भर्ती करवा रहे हैं। इन स्कूलों को मिलने वाली छूट के कारण आरटीई पोर्टल में इनके नाम दिखाई नहीं देते हैं।

अभिभावकों के घर के नजदीक होने के बावजूद अभिभावक इन स्कूलों में एडमिशन नहीं करवा पाते। इसका असर आरटीई के अंतर्गत पहले चरण के आवंटन पर पड़ता है। कई अभिभावक मनचाहा स्कूल नहीं मिलने के कारण स्कूलों में प्रवेश नहीं कराते। बाद में राज्य शिक्षा केंद्र 2nd चरण की प्रक्रिया के माध्यम से एक बार फिर अवसर देता है। सवाल यह है कि पहले चरण में अपना मनचाहा स्कूल खो चुके अभिभावकों को 2nd चरण में बचे हुए स्कूलों से ही संतोष करना पड़ता है। इसमें वे पहले चरण में ही अपने बच्चों का एडमिशन नहीं कराना चाहते थे। बता दें कि दू.सरे चरण की प्रक्रिया 27 जुलाई से शुरू की जा चुकी है, आगामी दो अगस्त को स्कूलों का आवंटन होगा।

RTE
RTE

प्ले स्कूल की नहीं है जानकारी:
प्ले स्कूलों को भी आरटीई के दायरे से बाहर रखा गया है। दरअसल, इन स्कूलों का कहीं पंजीयन ही नही है, जिससे पोर्टल पर यह स्कूल सामने नहीं आते। इन स्कूलों की जानकारी न तो महिला एवं बाल विकास को है और न ही जिला शिक्षा केंद्र को। जिला शिक्षा विभाग के मान्यता विभाग को भी शिकायत का इंतजार है। डीपीसी के अधिकारियों की मानें तो गत माह महिला बाल विकास ने उनसे प्ले स्कूलों की जानकारी मांगी है, लेकिन उनके विभाग के पास भी सूची नहीं है।

बाहर रखा गया
अल्पसंख्यक एवं अनुदान प्राप्त विद्यालयों को आरटीई के अंतर्गत 25 फीसद एडमिशन से बाहर रखा गया है। जिले में 36 अनुदान प्राप्त स्कूल हैं।
जेके इडपाचे, डीपीसी ङ्क्षछदवाड़ा

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

जाने-माने लेखक सलमान रुश्दी पर न्यूयॉर्क में जानलेवा हमला, चाकुओं से गोदकर किया घायलमनीष सिसोदिया का BJP पर निशाना, कहा - 'रेवड़ी बोलकर मजाक उड़ाने वाले चला रहे दोस्तवादी मॉडल'सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद बोले तेजस्वी यादव- 'नीतीश जी का हमसे हाथ मिलाना BJP के मुंह पर तमाचे की तरह''स्मोक वार्निंग' के कारण मालदीव जा रही 'गो फर्स्ट' की फ्लाइट की हुई कोयंबटूर में इमरजेंसी लैंडिंगHimachal Pradesh News: रामपुर के रनपु गांव में लैंडस्लाइड से एक महिला की मौत, 4 घायलMaharashtra Politics: चंद्रशेखर बावनकुले बने महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष, आशीष शेलार को मिली मुंबई की कमानममता बनर्जी को बड़ा झटका, TMC के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पवन वर्मा ने पार्टी से दिया इस्तीफामाकपा विधायक ने दिया विवादित बयान, जम्मू-कश्मीर को बताया 'भारत अधिकृत जम्मू-कश्मीर'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.