एक साथ उजड़ गया दो सगी बहनों का सुहाग, बस ने रौंदा

एक साथ उजड़ गया दो सगी बहनों का सुहाग, बस ने रौंदा
SAF jawans die

Prabha Shankar Giri | Updated: 27 Jun 2019, 04:00:00 AM (IST) Chhindwara, Chhindwara, Madhya Pradesh, India

पोस्टमार्टम के बाद दोनों का शव गृहग्राम सिवनी जिले के ढहकी भेजा गया

छिंदवाड़ा. मोक्षधाम के समीप खिरकापुरा के उतार में बुधवार सुबह करीब 11.30 बजे दर्दनाक दुर्घटना हुई। अंत्येष्टि के पूर्व शव यात्रा के साथ बाइक पर चल रहे छिंदवाड़ा एसएएफ आठवीं बटालियन में पदस्थ उपनिरीक्षक सतपाल सिंह (48) पिता भगवान दास बघेल एवं प्रधान आरक्षक उमाशंकर (46) पिता लक्ष्मण सिंह बघेल विभागीय बस क्रमांक एमपी 03, 5283 की चपेट में आ गए। दोनों की मौके पर ही मौत हो गई। पोस्टमार्टम के बाद शव सिवनी जिले के गृहग्राम ढहकी ले जाए गए।

पुलिस के अनुसार एसएएफ आठवीं बटालियन में उपनिरीक्षक के पद पर पदस्थ कमलचंद बावरिया की पत्नी विनीता बावरिया का बीमारी के चलते नागपुर में निधन हो गया था। बुधवार सुबह विनीता की अंतिम यात्रा एसएएफ आठवीं बटालियन से निकाली गई। शव वाहन के पीछे कुछ लोग बाइक पर सवार होकर चल रहे थे। सबसे पीछे विभाग की मिनी बस क्रमांक एमपी 03, 5283 चल रही थी जिसे विभागीय चालक संतोष बंदेवार चला रहा था। मोक्षधाम से पहले खिरकापुरा के उतार में बस के ब्रेक फेल हो गए। चालक ने जोर-जोर से चिल्लाया कि बस के ब्रेक फेल हो गए हैं। आवाज सुनकर बस के सामने एक ही बाइक पर चल रहे सतपाल सिंह बघेल और उमाशंकर बघेल सम्भलते इसके पहले ही वे बस की चपेट में आ गए। दोनों की मौके पर ही मौत हो गई।

बाइक से बच गई और कई जानें
दुर्घटना के दौरान मृतक जिस बाइक पर सवार थे वह बस के आगे वाले टायर के सामने फंस गई। इससे बस वहीं रुक गई। यदि बस नहीं रुकती तो और भी कई लोगों की जान जा सकती थी। बताया जा रहा है कि बस के चालक संतोष बंदेवार ने आवाज भी लगाई थी कि बस के ब्रेक फेल हो चुके हैं, लेकिन उसकी आवाज सामने चलने वालों को सुनाई नहीं थी। सतपाल सिंह बघेल और उमाशंकर बघेल बस के सामने ही चल रहे थे।

साडूभाई थे दोनों
मृतक सतपाल सिंह बघेल और उमाशंकर बघेल आपस में साडूभाई थे। दोनों एक साथ एक ही बाइक पर चल रहे थे। दोनों की मौत से एक साथ दो बहनों का सुहाग उजड़ गया। पूरे परिवार में शोक की लहर दौड़ पड़ी। जिला अस्पताल में पोस्टमार्टम के बाद शव उनके गृहग्राम सिवनी जिले के ढहकी भेजा गया। शव गांव पहुंचते ही मातम फैल गया। दोनों एक ही गांव के निवासी थे।

दो प्रधान आरक्षक हुए घायल
दुर्घटना में एसएएफ के दो प्रधान आरक्षक वीरेन्द्र नेगी और रामकुमार भलावी घायल हुए हैं। ये दोनों प्रधान आरक्षक भी शव यात्रा के साथ चल रहे थे। फिलहाल दोनों खतरे से बाहर बताए जा रहे हैं।


पुलिस ने कायम किया मर्ग
मर्ग कायम कर मामले को जांच में रखा है। जांच पूरी होने के बाद जो तथ्य सामने आएंगे उस आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। -दिशेष अग्रवाल, सीएसपी, छिंदवाड़ा

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned