School: प्राइवेट स्कूलों को अनुमति नहीं मिली तो ज्ञापन सौंपकर की यह मांग

पांच सूत्रीय मांगो को लेकर कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा।

By: ashish mishra

Published: 23 Oct 2020, 12:33 PM IST


छिंदवाड़ा. प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन भोपाल के आव्हान पर प्राइवेट विद्यालय संचालक संघ छिंदवाड़ा ने मुख्य मंत्री के नाम अपनी पांच सूत्रीय मांगो को लेकर कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। जिसमें प्राइवेट स्कूलो में अनिवार्य एवं निशुल्क शिक्षा आरटीई के अंर्तगत विद्यार्थियों की वर्ष 2011-12 से वर्ष 2019-20 की रोकी गई राशि का तत्काल भुगतान करने एवं वर्तमान सत्र में प्रवेश प्रारंम्भ करने की मांग की गई है। इसके अलावा कोरोना महामारी को देखते हुए प्राइवेट स्कूलों की कक्षा पहली से बारहवीं तक बिना किसी निरीक्षण के 5 वर्षों के लिए मान्यता का नवीनीकरण करने, स्कूलों को तत्काल संचालित करने, स्कूलों पर लगने वाले प्रापर्टी टैक्स, बिजली बिल, पानी बिल एवं लोन की मासिक किस्त वर्तमान सत्र के लिए रोके जाने एवं उस पर ब्याज माफ करने, स्कूलों में कार्यरत शिक्षक एवं अन्य स्टाफ के परिवार का पालन पोषण करने के लिए आर्थिक मदद प्रदान करने की मांग की गई। संघ के रणधीर तणधीर ताम्रकार ने बताया कि इस मांगों के निराकरण के लिए प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन द्वारा प्रदेश के संपूर्ण जिलो में एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया जाना निश्चित किया गया था। इसी क्रम में स्ववित्तिय प्राइवेट विद्यालय संचालक संघ ने भी 50 स्कूल संचालकों की उपस्थिति में प्रर्दशन के लिए अनुमति की मांग की थी, लेकिन अनुमति नही मिल पाने के कारण शांतिपूर्ण तरीके से ज्ञापन प्रस्तुत किया गया। संघ का कहना है कि अगर समस्याओं का निराकरण जल्द से जल्द नहीं किया जाता है तो स्कूल संचालक आमरण अनशन करने हेतु बाध्य होंगे। जिसकी संपूर्ण जिम्मेदारी शासन, प्रशासन की होगी।

ashish mishra Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned