‘गीता बंधन खोलने वाली कुंजी है’

हनुमान मंदिर में गीता प्रवचन

By: Rajendra Sharma

Published: 07 Jun 2018, 08:08 AM IST

छिंदवाड़ा . गीता में भगवान ने शरीर को क्षेत्र और जीव को क्षेत्रज्ञ कहा है। तेरहवें अध्याय का प्रथम श्लोक है। इदं शरीरं कौन्तेय,क्षेत्रिमित्य थधीमते, एतद्यो वेत्ति तं प्राहु,क्षेत्रज्ञ इति तदविद:। यानी शरीर एक खेत की तरह है। जीवात्मा इसे अज्ञानवश अपना मानता है। खेत चाहे कितना ही बड़ा हो, लेकिन फसल वह जहां बोएगा जितनी बोएगा उतनी ही काटेगा। एक नौकर दुकान में भले ही सेठ से ज्यादा काम करता है पर अपने को सेठ नहीं मानता, क्यांेकि उसे ज्ञान है कि वह स्वयं क्या है। यह बात नागेंद्र ब्रह्मचारी महाराज ने अनगढ़ हनुमान मंदिर मेंें गीता पर प्रवचन देते हुए कही। उन्होंने कहा कि शरीर के अच्छे बुरे कर्म है जैसा करते हैं वैसा ही भोगना पड़ता है। जीवन अगर संसार को अपना न माने भले संसार में रहे।
परमात्मा को अपना मानें तो जनम मरण का बंधन छूट जाता है। कर्मों के कारण ही उसे मनुष्य, देवता, पशु योनी मिलती है। कई योनियों के बाद मनुष्य जनम मिलता है तो इसी लिए कि यहां ज्ञान प्राप्त कर मुक्ति प्राप्त की जाए। गीता बंधन खोलने वाली कुंजी है। ताला ऊपर से हथोड़ा मारकर नहीं खुलता। चाबी ताले के अंदर जाकर उसके मर्म को टटोलती है और ताला खुल जाता है। हम ऊपर से भले ही कीर्तन कर चिल्लाते रहे, प्रभु को भजते रहे, लेकिन हम अपने अंदर से परमात्मा को पाने के लिए कितने तैयार है खुद अपने मर्म को टटोले तो बंधनों से हम मुक्त हो सकते हैं।

शिवजी की निकली बारात

छिंदवाड़ा . गुलाबरा में चल रही श्रीमद् भागवत कथा के तीसरे आज आयोजन स्थल पर शिव विवाह की कथा पं जितेंद्र महाराज ने सुनाई। श्रद्धालुओं से उन्होंने कहा कि ब्रह्मा विष्णु और शिव जगत के कर्ता-धर्ता हैं। यह तो भगवान हैं, लेकिन धरती पर आज हमारे लिए हमारे माता-पिता ही ये त्रिदेव के रूप में विराजमान है। ब्रह्माजी सृष्टि के रचियता है। भगवान विष्णु पालनहार है और शिव कल्याणकारी है। हमें यह सब अपने माता-पिता से मिलता है। इसलिए हमें उनकी पूजा करनी चाहिए। उनको नमन करना चाहिए, उनके आदेशों का पालन करना चाहिए। शिव-विवाह का प्रसंग यहां उत्सव के रूप में मनाया गया। शिवजी की बारात निकाली गई। शिव-पावर्ती की पूजा कर उनका वंदन किया गया।

Rajendra Sharma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned