scriptSilence at Anganwadi centers which are buzzing with children | बच्चों से गुलजार रहने वाले आंगनबाड़ी केन्द्रों पर सन्नाटा | Patrika News

बच्चों से गुलजार रहने वाले आंगनबाड़ी केन्द्रों पर सन्नाटा

अपनी मांगों को लेेकर हड़ताल पर चल रही आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की वजह से चिकित्सा सहायता सेवाओं सहित जनहित की योजनाएं प्रभावित हो रही हैं। आंगनबाड़ी केंद्रों पर ताले लगे हुए हैं। गर्भवती महिलाओं को पोषण आहार वितरण , नौनिहालों का टीकाकरण ठप है। इधर आम महिलाओं का कहना है कि हड़ताल से उन्हें भी काफी दिक्कतें हो रही है। इनकी मांगें माननी चाहिए। कार्यकर्ता समय -समय पर बच्चों ,गर्भवती व धात्री महिलाओं की देखभाल के लिए आती रहती थी। प्रसव व चिकित्सा सेवा के लिए महिलाओं को अस्पताल ले जाती हैं।

छिंदवाड़ा

Published: April 07, 2022 06:31:15 pm

छिन्दवाड़ा/ जुन्नारदेव. अपनी मांगों को लेेकर हड़ताल पर चल रही आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की वजह से चिकित्सा सहायता सेवाओं सहित जनहित की योजनाएं प्रभावित हो रही हैं। आंगनबाड़ी केंद्रों पर ताले लगे हुए हैं। गर्भवती महिलाओं को पोषण आहार वितरण , नौनिहालों का टीकाकरण ठप है। अब नौनिहालों सहित धात्री महिलाओं का टीकाकरण अन्यत्र स्थानों पर किया जा रहा है। बीते दिनों संतोषी माता मंदिर प्रांगण में नौनिहालों का टीकाकरण किया गया। गर्भवती और धात्री महिलाओं को मिलने वाला पोषण आहार सहित विभिन्न लाभ नहीं मिल रहे। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता स्थायी नियुक्ति , वेतन वृद्धि व अन्य मांगों को लेकर हड़ताल पर हैं। वार्ड 8 की आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सुनीता सोनी का कहना है कि 1 मार्च से सभी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता हड़ताल पर हैं। सरकार हमें स्थाईकर्मी घोषित करें। वेतन वृद्धि की जाए साथ ही अन्य विभागों के कार्य कार्यकर्ताओं से नहीं कराए जाएं। यदि शासन प्रशासन लिखित में हमें आश्वासन देता है तो हम हड़ताल खत्म कर काम पर लौट आएंगी। वार्ड 16 की आंगनबाड़ी कार्यकर्ता निर्मला डोंगरे का कहना है कि आंगनबाड़ी केंद्रों के ना खुलने से नगर वासियों को परेशानी हो रही है । शासन-प्रशासन जल्द से जल्द हमारी मांगों को पूरा करें । हम अपने काम पर वापस लौटे और नगर वासियों को बेहतर सुविधाएं प्रदान कर सकें। इधर आम महिलाओं का कहना है कि हड़ताल से उन्हें भी काफी दिक्कतें हो रही है। इनकी मांगें माननी चाहिए। कार्यकर्ता समय -समय पर बच्चों ,गर्भवती व धात्री महिलाओं की देखभाल के लिए आती रहती थी। प्रसव व चिकित्सा सेवा के लिए महिलाओं को अस्पताल ले जाती हैं। इनके बगैर परेशानी तो हो रही है।
aaganbadi.jpg
Silence at Anganwadi centers which are buzzing with children

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

किसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामपैदाइशी भाग्यशाली माने जाते हैं इन 3 राशियों के बच्चे, पिता की बदल देते हैं तकदीरइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथ7 दिनों तक मीन राशि में साथ रहेंगे मंगल-शुक्र, इन राशियों के लोगों पर जमकर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपादो माह में शुरू होने वाला है जयपुर में एक और टर्मिनल रेलवे स्टेशन, कई ट्रेनें वहीं से होंगी शुरूपटवारी, गिरदावर और तहसीलदार कान खोलकर सुनले बदमाशी करोगे तो सस्पेंड करके यही टांग कर जाएंगेआम आदमी को राहत, अब सिर्फ कमर्शियल वाहनों को ही देना पड़ेगा टोल15 जून तक इन 3 राशि वालों के लिए बना रहेगा 'राज योग', सूर्य सी चमकेगी किस्मत!

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी मस्जिद मुद्दे पर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का पहला बयान, केंद्रीय मंत्री भी बोलेज्ञानवापी मामले को लेकर अखिलेश यादव ने हिंदू देवी-देवताओं पर की विवादित टिप्पणीIPL 2022 LSG vs KKR : डिकॉक-राहुल के तूफान में उड़ा केकेआर, कोलकाता को रोमांचक मुकाबले में 2 रनों से हरायानोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेरपुलिस में मामला दर्ज, नाराज कांग्रेस विधायक का इस्तीफा, जानें क्या है पूरा मामलाडिकॉक-राहुल ने IPL में रचा इतिहास, तोड़ डाला वार्नर और बेयरेस्टो का 4 साल पुराना रिकॉर्डकर्क सहित इन राशि वालों के लिए धन-कारोबार की दृष्टि से अनुकूल है आज का दिन, पेशेवर यात्राएं होंगी सफलबीपीसीएल का निजीकरण रुका, सरकार नए सिरे से फिर शुरू करेगी प्रक्रिया
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.