हाई-हायर सेकंडरी स्कूल परीक्षाओं में भाषा की विशिष्टता खत्म, जानें वजह

- प्राथमिक-माध्यमिक स्कूलों के बच्चों को मिलेगा 40 अंक का प्रोजेक्ट

By: Dinesh Sahu

Updated: 23 Oct 2020, 11:21 AM IST

छिंदवाड़ा/ माध्यमिक शिक्षा मंडल भोपाल ने हाई तथा हायर सेकंडरी स्कूल की परीक्षाओं में वर्ष 2021-22 से विशिष्ट भाषा एवं सामान्य भाषा का प्रावधान समाप्त कर दिया है। इसके चलते माशिमं द्वारा सम्बंधित प्राप्त संस्थाओं में वर्ष 2021-21 से कक्षा नवमीं एवं ग्यारहवीं कक्षाओं में अब विशिष्ट भाषा एवं सामान्य भाषा से संबंधित परीक्षाएं नहीं ली जाएगी, जबकि इनमें स्थान पर नवीन व्यवस्था लागू की गई है।

इसमें विशिष्ट एवं सामान्य भाषा के अलग-अलग पाठ्यक्रम/प्रश्र पत्र न होकर केवल 01 भाषा का प्रावधान सुनिश्चित होगा, जिसके चलते अब हिन्दी भाषा, अंग्रेजी भाषा, संस्कृत भाषा और उर्दू भाषा का पेपर होगा। साथ ही हायर सेकंडरी के वाणिज्य एवं कला संकाय में अर्थशास्त्र विषय के लिए बीसीएसई के अनुसार समान पाठ्यक्रम/पाठ्यपूस्तकें लागू की गई है। अर्थशास्त्र विषय का पाठ्यक्रम वाणिज्य एवं कला संकाय के लिए समान रहेगा।


40 अंक का होगा प्रोजेक्ट वर्क -


इधर राज्य शिक्षा केंद्र भोपाल ने कोविड-19 की वजह से समस्त शासकीय एवं अशासकीय संस्थाओं में निशुल्क और अनिवार्य बाल शिक्षा का अधिकार अधिनियम के तहत प्राथमिक एवं माध्यमिक स्कूलों की श्रेणी के पाठ्यक्रम को पुनर्नियोजित करने का निर्णय लिया है। अपर संचालक ओएल मंडलोई के निर्देशानुसार पाठ्यक्रम की 60 विषयवस्तु को फेस टू फेस में और 40 प्रतिशत विषयवस्तु को होम एसाइमेंट/प्रोजेक्ट कार्य के रूप में किया जाएगा।

Show More
Dinesh Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned