सीएम के जिले में कॉलेज प्रबंधन की मनमानी, 11 से 10 विषयों में कर दिया फेल

सीएम के जिले में कॉलेज प्रबंधन की मनमानी, 11 से 10 विषयों में कर दिया फेल
Students charged with college management

Prabha Shankar Giri | Publish: Feb, 26 2019 10:49:04 AM (IST) | Updated: Feb, 26 2019 10:49:05 AM (IST) Chhindwara, Chhindwara, Madhya Pradesh, India

छात्रों ने कॉलेज प्रबंधन पर लगाया आरोप

छिंदवाड़ा. परीक्षा परिणाम से अंसतुष्ट जीएच रायसोनी कॉलेज, सौंसर के बीएससी प्रथम सेमेस्टर एग्रीकल्चर के 14 विद्यार्थी सोमवार को सडक़ पर उतर आए। उन्होंने कॉलेज पर मनमानी का आरोप लगाते हुए छिंदवाड़ा एसडीएम से शिकायत की। विद्यार्थियों का कहना था कि कॉलेज प्रबंधन हर वक्त किसी न किसी बहाने मनमानी फीस वसूलता है। दिसम्बर 2018 में परीक्षा आयोजित की गई। जिसमें 150 विद्यार्थियों में से पचास प्रतिशत ही पास हो पाए। अधिकतर विद्यार्थियों को 11 में से 8 या 9 विषय में एटीकेटी आई है। अब एटीकेटी परीक्षा के लिए भी प्रत्येक विषय में आठ सौ रुपए फीस मांगी जा रही है। कॉलेज द्वारा खुद के नियम बनाए गए हैं। चार या अधिक विषय में एटीकेटी होने पर कुल 25 सौ रुपए ही देने हंै। विद्यार्थियों ने कॉलेज पर आरोप लगाया किछह माह पूर्व दाखिले के समय कॉलेज ने 10वीं एवं 12वीं की ओरिजनल मार्कशीट रखवा ली। वायु सेना भर्ती के दौरान जब कॉलेज से मार्कशीट मांगी तो उन्होंने देने से इनकार कर दिया। ऐसे में हम वायु सेना भर्ती में शामिल होने से भी वंचित रह गए।
मनमानी से परेशान... विद्यार्थियों का कहना है कि कॉलेज ने अधिकतर विद्यार्थियों से एक साल की फीस एक लाख पांच हजार रुपए जमा करवा ली है। हम कॉलेज के मनमाने रवैए से परेशान हैं। इसलिए अब वहां पढऩा नहीं चाहते।
फीस वापस
करे कॉलेज या करे पास
विद्यार्थियों ने एसडीएम को ज्ञापन सौंपकर मांग की है कि कॉलेज या तो उनकी फीस वापस कर दे या फिर हमें पास करे।

नियम के अनुसार ही अध्यापन
&हम नियम के अनुसार ही कॉलेज में अध्यापन कार्य करा रहे हैं। बीएससी प्रथम सेमेस्टर में 53 प्रतिशत रिजल्ट आया है। जो बच्चे सेशनल परीक्षा में नहीं बैठे हैं या फिर उनकी उपस्थिति कम रही है वही फेल हुए हैं। नियम के अनुसार ओरिजनल मार्कशीट कॉलेज में छह माह तक वेरिफिकेशन के लिए रखी जाती है।
काविन गवाली, डीन, रायसोनी कॉलेज, साईंखेड़ा, सौंसर

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned