सडक़ पर उतरे विद्यार्थी, यह रही वजह

समस्या के निराकरण की मांग, नहीं तो कॉलेज गेट पर बैठकर करेंगे पढ़ाई

By: Rajendra Sharma

Published: 13 Mar 2018, 02:15 PM IST

छिंदवाड़ा . रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय द्वारा जारी किए गए बीए प्रथम वर्ष परीक्षा समय-सारिणी में त्रुटि को लेकर सोमवार को विद्यार्थी सडक़ पर उतर आए। राजमाता सिंधिया गल्र्स कॉलेज एवं डेनियलसन कॉलेज विद्यार्थी जिला छात्रा महासंघ अध्यक्ष रेशमा खान के नेतृत्व में कलेक्ट्रेट पहुंचे। यहां उन्होंने रादुविवि के खिलाफ नारेबाजी करते हुए कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर समस्या के निराकरण की मांग की।
विद्यार्थियों का कहना था कि छह एवं नौ अप्रैल को एक ही दिन और एक ही समय में समाजशास्त्र और गृहविज्ञान विषय की परीक्षा आयोजित की गई है। इसके अलावा ११ अप्रैल को इतिहास एवं अर्थशास्त्र विषय का पेपर है। ऐसे में उन्हें एक विषय की परीक्षा छोडऩी पड़ेगी। विद्यार्थियों का कहना है कि इस सम्बंध में प्राचार्य से भी शिकायत की गई, लेकिन उन्होंने दूसरे विषय से परीक्षा देने की बात कही। दरअसल इस संबंध में कॉलेज प्राचार्य ने विश्वविद्यालय से बात की थी। जिस पर उन्होंने परीक्षा समय-सारिणी बदलने को लेकर असमर्थता जताते हुए दूसरे विषय से परीक्षा देने की छूट के लिए कहा था। अब विद्यार्थियों का कहना है कि परीक्षा के इतने कम दिन शेष रह गए हैं। ऐसे में कैसे दूसरे विषय की परीक्षा की तैयारी हो पाएगी। रादुविवि को चाहिए कि वे परीक्षा समय-सारिणी में बदलाव करे। गौरतलब है कि परीक्षाएं २६ मार्च से प्रारम्भ हो रहीं हैं।

रादुविवि ने नहीं जारी की नियमावली

दरअसल, रादुविवि ने बीते वर्ष छिंदवाड़ा जिले के लिए अलग से परीक्षा आयोजित की थी। उसमें प्रत्येक दिन अलग-अलग विषयों के पेपर हुए। नए सत्र में रादुविवि द्वारा ग्रुपिंग विषय को लेकर कोई निर्देश नहीं जारी किए गए। विद्यार्थियों द्वारा विषय का चयन तो कर लिया गया, लेकिन वह विश्वविद्यालय के नियम पर नहीं था। अब विद्यार्थियों को समस्या का सामना करना पड़ रहा है।

तो होगी ज्यादा परेशानी

विद्यार्थियों का कहना है कि एक विषय की परीक्षा छोडऩे पर एटीकेटी आएगी और फिर हम पर आर्थिक बोझ बढ़ेगा। इसके अलावा अन्य परेशानी भी होगी। समस्या का निराकरण नहीं हुआ तो वे कॉलेज गेट पर ही बैठकर पढ़ाई करेंगे।
मैंने रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय से परीक्षा समय-सारिणी में समस्या को लेकर बात की है। समस्या का निराकरण जल्द हो जाएगा।
डॉ. केएल जैन, अतिरिक्त संचालक, उच्च शिक्षा विभाग, जबलपुर सम्भाग

Rajendra Sharma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned