सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में डॉक्टरों के सहयोग से मुनाफाख़ोरी का रैकेट सक्रिय

विधायक के दौरे में मिली डेरों अनियमितता

By: Rajendra Sharma

Published: 22 Aug 2017, 12:04 AM IST


छिंदवाड़ा/नागपुर. विदर्भ में मेडिकल हब के रूप में पहचान रखने वाले नागपुर के सरकारी अस्पतालों में मरीज राम भरोसें ही है। आए दिन शहर के प्रमुख सरकारी अस्पतालों में मरीजों से ठगी, अव्यवस्थाओं की खबरें सुर्खियां बन रहीं हैं। लगातार मिल रही शिकायतों के चिलते सोमवार को विधायक गिरीश व्यास ने सुपर स्पेशलिटी अस्पताल का दौरा किया, जहां उन्हें बदहाली का चौकाने वाला नजारा दिखा।
सुपर स्पेशलिटी अस्पताल गंभीर बीमारियों के इलाज के लिए है, लेकिन अपने दौरे में विधायक ने पाया की कई डॉक्टर ओपीडी के समय ही अस्पताल में मौजूद नहीं थे। इतना ही नहीं उन्हें बीमार जनता से अस्पताल द्वारा की जा रही लूट के खुलासे का भी अनुभव हुआ। दौरे के दौरान न्यूरो सर्जन डॉ. प्रमोद गिरी, डॉ. दास ड्यूटी से नदारद थे जब अस्पताल के कर्मचारियों से पूछताछ की तो पता चला दोनों सोमवार को अस्पताल आए ही नहीं। डॉक्टर क्या छुट्टी पर है? इसकी जांच करने पर पता चला की दोनों ने अधिकृत तौर पर छुट्टी भी नहीं ली है। मरीजों और उनके परिजनों से पूछताछ करने पर उन्होंने विधायक को बताया कि यहां पर्ची पर लिखी दवाई कभी नहीं मिलती। आधे से ज्यादा दवाई उन्हें बाहर से लानी पड़ती है। इतना ही नहीं बाहर से आने वाले मरीजों को एडवांस में पैसे जमा कराने पड़ते हैं और इलाज कराने के लिए अस्पताल कर्मचारियों की जरूरतों को भी पूरा करना पड़ता है। स्टेशनरी का सामान तक कर्मचारी मरीजों के परिजन से बुलवाते है। सफाई कर्मी,अटेन्डा नदारद थे। विधायक जब अस्पताल की निचली मंजिल में मुआयना कर रहे थे उसी समय इमारत की तीसरी मंजिल में महीनों से बंद टॉयलेट को खोलकर उसकी साफ-सफाई शुरू थी।

सीएम से करेंगे शिकायत

अस्पताल की इस हालात की शिकायत गिरीश व्यास ने स्वास्थ्य मंत्री और मुख्यमंत्री से करने की बात कही है। उनके मुताबिक सरकार जनता को बेहतर सुविधा उपलब्ध कराने के लिए आवश्यकता के अनुरूप व्यवस्था कर रही है, लेकिन अस्पताल का प्रशासन ईमानदारी से काम नहीं कर रहा है। व्यास ने आरोप लगाया है कि चूंकि अस्पताल में कार्यरत अधिकतर डॉक्टर के निजी क्लीनिक हैं इसलिए वे वहां व्यस्त रहते हैं। सरकारी अस्पताल में बेहतर इलाज उपलब्ध न होने से उनकी दुकानें चलतीं हैं, इसलिए जान बूझकर वह यहां ध्यान नहीं देते। यह सब काम रैकेट की तरह चल रहा है जिसमे इंसानियत की कीमत से ज्यादा मुनाफाख़ोरी की लालच हावी है। व्यास ने मुख्यमंत्री से मिलकर इस रैकेट की जांच करने की मांग करने की बात भी कही है।
गिरीश व्यास ने दावा किया की उनके आने की पूर्व सूचना मिलने पर डीन खुद अस्पताल पहुंच गए थे अस्पताल की हालत को सुधारने का थोड़ा बहुत प्रयास भी किया गया। अस्पताल परिसर के बहार हमेशा अतिक्रमण रहता है जिसे आज हटाया गया था। पर अब वह समय समय पर गुप्त दौरा करते रहेंगे।
ऐसा नहीं है की विधायक के दौरे के बाद ही अस्पताल की अव्यवस्था का पहली बार खुलासा हुआ है। नागपुर से लेकर देश के किसी भी सरकारी अस्पताल का ऐसा ही हाल रहता है। गोरखपुर के सरकारी अस्पताल में बच्चों की हुई मौत के बाद इन दिनों सरकारी अस्पताल के हालत सार्वजनिक बहस का हिस्सा बन गए हैं। इस दौरे में व्यास के साथ पार्टी प्रवक्ता चंदन गोस्वामी और अन्य नेता उपस्थित थे।

Rajendra Sharma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned