scriptSwachhta Survey: अब मानसून के बाद ही सर्वे के लिए आएगी केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय, फिलहाल ये है रुकावट | Patrika News
छिंदवाड़ा

Swachhta Survey: अब मानसून के बाद ही सर्वे के लिए आएगी केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय, फिलहाल ये है रुकावट

– जुलाई में प्रस्तावित था शहर का सर्वेक्षण
– केंद्र स्तर पर टला कार्यक्रम
– स्वच्छता सर्वेक्षण-2024

छिंदवाड़ाJun 28, 2024 / 11:53 am

prabha shankar

Swachhta Survey-2024

Swachhta Survey-2024

Swachhta Survey-2024 के सर्वे के लिए केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय की टीम मानसून की समाप्ति के बाद ही आएगी। पहले इसका कार्यक्रम जुलाई में प्रस्तावित था, लेकिन बारिश में सडक़-नाली समेत अन्य समस्याओं के होने से इस दौरे को केंद्रीय स्तर पर ही टाल दिया गया है।
इस सर्वेक्षण में 9500 अंक होंगे। इसमें 60 प्रतिशत यानी 5705 अंक सर्विस लेवल प्रोग्रेस पर तय किए हंै। जबकि सर्टिफिकेशन पर 26 प्रतिशत यानी 2500 अंक और 14 प्रतिशत यानी 1295 अंक जन आंदोलन के लिए रहेंगे। सर्वेक्षण 2024 की टूल फिट के अनुसार इस बार की थीम थ्री आर यानी रिड्यूज, रियूज, रिसाइकिल और बैकलेन (घर के पीछे की गली) पर विशेष फोकस किया जाएगा। खास बात यह है कि बैकलेन को स्वच्छता अभियान में पहली बार शामिल किया गया है।

छत के पिछले हिस्से में कचरा फेंकने की आदत बदलना मकसद

बैकलेन पर फोकस करने का कारण यह है कि सामान्यत: लोग घरों से निकलने वाले कचरे को छत से पीछे वाले हिस्से में फेंक देते हैं। पूर्व के दशकों में घरों के पीछे स्थित गलियों में बच्चे खेलते थे और वहां पर स्वच्छता रहती थी। अब ऐसे हालात नहीं हैं।

ये है थीम

रिड्यूज: कचरे की मात्रा को कम करना। जैसे पॉलीथिन की जगह कपड़े का थैला और डिस्पोजल की जगह स्टील के बर्तन का उपयोग करना। हालांकि शहर में अभी पांच प्रतिशत लोग ही सब्जी लेने के लिए थैले लेकर जाते हैं, अन्य पॉलीथिन का ही उपयोग कर रहे हैं।

रियूज: उत्पादित कचरे का पुन: उपयोग करना। जैसे कबाड़ से जुगाड़, बोतल व पेपर से नई चीजें डेवलप करना। हालांकि अभी कुछ ही लोग कबाड़ से जुगाड़ की चीजें बना रहे हैं।

रिसाइकिल: गीले कचरे से खाद बनाना और प्लास्टिक व पेपर को गलाकर अन्य सामग्री बनाना। अभी प्लास्टिक सहित अन्य मटेरियल को एकत्र करने पर ही ध्यान है। इस प्रक्रिया को आगे बढ़ाना है।

जामुनझिरी प्लांट को प्रोसेसिंग पर देने की पेशकश

जामुनझिरी कचरा प्लांट से आय अर्जित करने की दृष्टि से नगर निगम ने पायलट प्रोजेक्ट के तहत निजी एजेंसियों को एक पेशकश की है। निगम इंजीनियर अभिनव तिवारी के मुताबिक इस प्रोजेक्ट में निजी अनुभवी फर्म या व्यक्ति को अपने प्रयासों से कचरा की प्रोसेसिंग से आय अर्जित कर निगम को डाटा देना होगा। उसके बाद इसका टेंडर किया जाएगा।

सामुदायिक व सार्वजनिक टॉयलेट पर विशेष ध्यान

स्वच्छता सर्वेक्षण-2024 के सर्वे में सभी शहरों में सामुदायिक व सार्वजनिक टॉयलेट की सफाई पर इस बार विशेष ध्यान दिया जाएगा। नगर निगम पिछले सर्वेक्षणों पर ध्यान देकर अच्छे अंक अर्जित किया चुका है।

बेहतर अंक प्राप्त करने प्रयासरत

निगम में स्वच्छता सर्वेक्षण की तैयारियां की जा रही हैं। इसके लिए कर्मचारियों को जिम्मेदारी सौंपी गई है। इस बार सर्वेक्षण में बेहतर अंक प्राप्त करने प्रयासरत हैं।
-ईश्वर सिंह चंदेली, नोडल अधिकारी, स्वच्छता सर्वे नगर निगम

Hindi News/ Chhindwara / Swachhta Survey: अब मानसून के बाद ही सर्वे के लिए आएगी केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय, फिलहाल ये है रुकावट

ट्रेंडिंग वीडियो