लिया आशीर्वाद, शिक्षक बन समझाया महत्व

लिया आशीर्वाद, शिक्षक बन समझाया महत्व

ashish mishra | Publish: Sep, 06 2018 12:32:19 PM (IST) Chhindwara, Madhya Pradesh, India

विद्यार्थियों ने शिक्षकों का आशीर्वाद लेकर उनको सम्मानित किया।


छिंदवाड़ा. भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन को शिक्षक दिवस के मनाते हुए बुधवार को स्कूलों एवं शिक्षण संस्थाओं में विविध आयोजन किए गए। शुभारम्भ डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन एवं मां सरस्वती के छायाचित्र पर माल्यार्पण कर किया गया। विद्यार्थियों ने शिक्षकों का आशीर्वाद लेकर उनको सम्मानित किया। इसके बाद सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुति दी। कुछ स्कूलों में इस विशेष दिन पर सीनियर विद्यार्थियों ने शिक्षक की भूमिका निभाई। एक दिन का शिक्षक बनकर विद्यार्थियों ने शिक्षक के महत्व को जाना।

विद्यार्थियों ने बताया दिवस का महत्व

उत्कृष्ट विद्यालय में भी विविध आयोजन किए गए। सर्वप्रथम कक्षा १२वीं की छात्राओं ने शिक्षक की भूमिका अदा करते हुए अध्यापन कराया। दोपहर में यहां शिक्षकों के सम्मान में विशेष कार्यक्रम आयोजित हुआ। शुभारम्भ प्राचार्य आईएम भिमनवार सहित अन्य गणमान्य द्वारा डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन, मां सरस्वती के छायाचित्र पर माल्र्यापण कर किया गया। शिक्षकों का सम्मान करने के साथ विद्यार्थियों ने शिक्षक के महत्व पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम में समस्त स्टाफ मौजूद रहा।

मनाई शिक्षक दिवस की खुशियां

केंद्रीय विद्यालय बडक़ुही में शिक्षक दिवस हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। कार्यक्रम की शुरुआत शिक्षकों द्वारा सुबह की सभा से हुई। इसके बाद डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन एवं मां सरस्वती के छायाचित्र पर माल्र्यापण किया गया। फिर केक काटकर शिक्षक दिवस की खुशियां मनाई गईं। कार्यक्रम के अंतर्गत राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री का संदेश वाचन किया गया। इसके पश्चात कक्षा १२वीं के विद्यार्थियों ने शिक्षक की भूमिका अदा करते हुए अध्यापन कार्य कराया।

विधि कॉलेज विद्यार्थियों ने मनाया शिक्षक दिवस

शासकीय विधि कॉलेज धर्मटेकड़ी में बुधवार को विधि के विद्यार्थियों ने प्राचार्य डॉ. यूके जैन, डॉ. वीके अकोदिया, राकेश चौरासे, दीपिका कटरे सहित अन्य शिक्षकों का पुष्प-गुच्छ, श्रीफल देकर सम्मान किया। इस अवसर पर प्राचार्य ने विद्यार्थियों से कहा कि शिक्षक सदैव विद्यार्थियों के हित में तत्पर रहते हैं। शिक्षकों द्वारा दी गई शिक्षा को छात्रों को आत्मसात करते हुए अपने भविष्य निर्माण में उनका अनुकरण करना चाहिए। कार्यक्रम का संचालन आकाश डेहरिया ने किया।

Ad Block is Banned