फर्जी हाजिरी भरकर निकाली थी राशि, जानिए क्या है मामला

यहां सरपंच, सचिव, मेट सहित कंप्यूटर ऑपरेटर ने फर्जी हाजिरी भरकर राशि निकाली है परिवार के सदस्यों सहित नाबालिग बच्चों को मजदूर बनाकर फर्जी हाजिरी निकालने वाले दोषियों के खिलाफ जिला पंचायत ने कार्रवाई नहीं कर सिर्फ निकाली गई फर्जी हाजिरी की ही वसूली की है।

छिंदवाड़ा/तामिया/ डोब ग्राम पंचायत का रोजगार सहायक सुनील डेहरिया को शौचालय निर्माण की राशि हितग्राही के खाते में ना डाल कर अपने परिवार के खाते में डालने को लेकर 11 अगस्त 2017 को बर्खास्त किया जा चुका है। इसके बाद भी सरपंच सचिव सहित अन्य भ्रष्टाचार करने में बाज नहीं आ रहे हैं। ऐसा ही एक और मामला इसी ग्राम पंचायत का है।
यहां सरपंच, सचिव, मेट सहित कंप्यूटर ऑपरेटर ने फर्जी हाजिरी भरकर राशि निकाली है परिवार के सदस्यों सहित नाबालिग बच्चों को मजदूर बनाकर फर्जी हाजिरी निकालने वाले दोषियों के खिलाफ जिला पंचायत ने कार्रवाई नहीं कर सिर्फ निकाली गई फर्जी हाजिरी की ही वसूली की है। ग्राम पंचायत के मेटों ने अपने परिवार सहित नाबालिग बच्चों के नाम से जॉब कार्ड जारी करवाकर मस्टररोल में फर्जी हाजिरी भरकर संबंधित के खाते में 83 हजार 765 रुपए प्राप्त किया था।
जानकारी के अनुसार तामिया जनपद पंचायत के समीपस्थ ग्राम पंचायत डोब के ग्रामीणों ने सरपंच सिरसु उईके, सचिव जगतशा तेकाम के विरुद्ध निर्माण कार्यों में भ्रष्टाचार एवं फर्जी हाजिरी भरने को लेकर जिला पंचायत सीइओ से शिकायत की गई थी शिकायत की जांच तामिया जनपद पंचायत द्वारा की गई जिसमें ग्राम पंचायत का मैट रामजी पिता सोमजी पटेल, रमेश पिता लालसिंग भारती, चतरसिंग पिता छोटेलाल कवरेती ने अपने परिवार सहित नाबालिग स्कूल जाने वाले बच्चों के जॉब कार्ड बनवाकर मस्टर रोल में फर्जी हाजिरी की राशि खाते में डाली गई। जांच में कंप्यूटर ऑपरेटर दुर्गा प्रसाद पिता मुन्नू सलाम को भी दोषी माना है ध्यान देने योग्य तथ्य यह है कि पंचायत के लॉगइन आईडी से ऑनलाइन मस्टरोल की डिमांड की जाती है।
जनपद पंचायत द्वारा मस्टर रोल जारी करता है। सरपंच सचिव के संयुक्त हस्ताक्षर सहित अन्य कार्रवाई के बाद ही मजदूरों के खाते में फर्जी हाजिरी डाली गई लेकिन जांच में सचिव जगतशा तेकाम के विरुद्ध सिर्फ कार्य के प्रति लापरवाही मानते हुए दोषी माना गया। तत्कालीन जिला पंचायत सीईओ वरदमूर्ति मिश्रा के कार्यकाल के दौरान दोषियों पर कार्रवाई ना कर सिर्फ मजदूर के खातों में डाली गई फर्जी हाजिरी 83 हजार 765 की राशि ही ग्राम पंचायत सचिव सहित संबंधित मेटो से वसूल की गई ।

जांच प्रतिवेदन जिला पंचायत को पहुंचाया गया था प्रतिवेदन पर क्या कार्रवाई की गई इसकी जानकारी नहीं है।
सीएल अहिरवार, सीइओ, जनपद पंचायत तामिया
फर्जी हाजिरी भरने के दोषी पाए जाने पर जिला पंचायत ने 83 हजार 765 रुपए की वसूली
की है।
जगतशा तेकाम, सचिव, जनपद पंचायत तामिया

Sanjay Kumar Dandale
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned