परचरी कथा का श्रवण बड़े भाग्य से प्राप्त होता है

परचरी कथा का श्रवण बड़े भाग्य से प्राप्त होता है

Arun Garhewal | Updated: 04 Jun 2019, 06:13:46 PM (IST) Chhindwara, Chhindwara, Madhya Pradesh, India

जन्मों-जन्म के पापों से मुक्ति मिलने के साथ ही मोक्ष की प्राप्ति होती है।

छिंदवाड़ा. खैरवानी/हनोतिया. परचरी कथा का श्रवण बड़े ही भाग्य से प्राप्त होता है। परचरी की कथा विरले ही ग्रामों और महानगरों में होती है। जहां तक हो सके इसका लाभ प्रत्येक जनमानस को लेना चाहिए। इस कथा को सुनने से जन्मों-जन्म के पापों से मुक्ति मिलने के साथ ही मोक्ष की प्राप्ति होती है।


उक्ताशय के उद्गार विकासखंड अन्तर्गत ग्राम पंचायत खैरवानी के सिंगाजी बाबा दरबार में पांच दिवसीय परचरी पुराण कथा का वाचन करने आये सुधांषु महाराज हरदा ने व्यक्त किये। संत सिंगाजी महाराज की पांच दिवसीय परचरी पुराण कथा के दूसरे दिवस की कथा में कथा व्यास सुधांशु महाराज द्वारा संत सिंगाजी महाराज के जीवन के चमत्कारों पर आधारित कथा का वर्णन किया गया तथा साथ ही साथ संत सिंगाजी महाराज के द्वारा गुरु महिमा का वर्णन एवं संत सिंगाजी महाराज के गुरु दीक्षा की कथा सुनाई गई। कथा को सुनने के लिए ग्रामीणों का सैलाब उमड़ पड़ा।


इधर नगर के वार्ड क्रमांक तीन बावली स्थित पवित्र धार्मिक स्थल श्री खाण्डेश्वर काल भैरव शनि मंदिर में श्री शनिदेव का जन्मोत्सव साथ मनाया गया। इस दौरान नगरवासियों 9 बजे से भगवान कालभैरव, भगवान श्री गणेश एवं श्री शनिदेव का अभिषेक पूजन किया गया। इसके बाद हवन पूजन पं. सुशील मिश्रा एवं पं. राकेश मिश्रा ने संपन्न कराया। वहीं शाम को भंडारे का आयोजन किया गया जिसमें समस्त विकासखंडवासियों द्वारा शनिदेव का पूजन उपरांत महाप्रसाद ग्रहण किया। इस दौरान काशीराम झरवड़े, अजय सिंह, स्वरूप मालवीय, बंटी यादव, सीबू, सुरेन्द्र, विनीत पटवा, विनीत पटवा, देवकुमार पटवा, आकाश वर्मा, धनीराम सोनी, यादव परिवार, राजेश श्रीवास्तव सहित अन्य लोगों का विशेष योगदान रहा।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned