The immersion News:आस्था : बुधवार को दिनभर निकलती रहीं विसर्जन यात्राएं

Chandra Shekhar Sakarwar

Updated: 11 Oct 2019, 12:03:37 PM (IST)

Chhindwara, Chhindwara, Madhya Pradesh, India


छिंदवाड़ा नौ दिन तक भक्ति भाव से मातारानी की पूजा-अर्चना करने के बाद भक्तों ने बुधवार को मां से आशीर्वाद मांगा और उन्हें नम आंखों के साथ विदा किया। वर्षभर कृपा बनाए रखने की कामना के बाद अगले वर्ष फिर इसी तरह अंगना पधारने का विनम्र आग्रह भी किया।
दशहरे के दूसरे दिन विसर्जन यात्राओं की शहर में धूम रही। सुबह से विभिन्न क्षेत्रों से गाजे-बाजे, ढोल ताशों और डीजे के साथ श्रद्धालु माता रानी को विदा देने के लिए प्रतिमाओं को जल स्रोतों की तरफ ले गए। बच्चे, युवा, महिला, पुरुष, बुजुर्ग सभी विसर्जन यात्रा में शामिल हुए। मातारानी की आरती के साथ उन्हें विदा किया गया।
शहर के सबसे बड़े सिद्ध स्थल बड़ी माता मंदिर से मातारानी की विसर्जन यात्रा लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र रही। दोपहर बाद यहां से निकली विसर्जन यात्रा में मेरट से आए नर्तक दल ने दर्शकों का मन मोह लिया। सुमधुर भजनों पर राधा-कृष्ण के वेश में सजे-धजे कलाकारों की ऐसी जीवंत प्रस्तुति रही कि लोग उन्हें निहारते ही रहे। यहां विशेष रथ पर मातारानी को विराजमान किया गया और भक्तों ने रथ को हाथ से खींचा। शहर के मुख्य मार्गों से होते हुए लगभग चार घंटे बाद यह यात्रा छोटा तालाब पहुंची, जहां मातारानी की प्रतिमा को जलकुंड में विसर्जित किया। इस दौरान शहरवासियों ने भी मां के दर्शन कर सिर नवाया।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned