महिला सशक्तिकरण आज की आवश्यकता

त्वरित न्याय एवं कठोर कानूनों की आवश्यकता विषय पर परिचर्चा

छिंदवाड़ा. परासिया. शासकीय आदर्श कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय परासिया में राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई द्वारा महिला उत्पीडऩ रोकने, त्वरित न्याय एवं कठोर कानूनों की आवश्यकता विषय पर परिचर्चा का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में प्राचार्य ज्योति भालेराव, प्रभारी ममता कराडे ने विषय पर अपने विचार व्यक्त किए।
मुख्य वक्ता राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त सुरिंदर कौर खंडूजा ने निर्भया कांड के अपराधियों को अभी तक मृत्युदंड न दिए जाने, निर्भया कोष निर्धारित मद में दी गई राशि को राज्य सरकारों द्वारा खर्च नहीं करने का मुद्दा उठाते हुए महिला उत्पीडऩ रोकने के लिए महिलाओं के सशक्तिकरण को आवश्यक बताया। उन्होंने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए किए जाने वाले उपाय नाकाफी हैं तथा महिला संरक्षण के लिए बनाए गए। कानून का क्रियांवयन ठीक ढंग से नहीं किया जा रहा है। वर्तमान समय में सामाजिक नजरिए में बदलाव तथा कठोर कानून की आवश्यकता है।
इधर आंगनबाड़ी केंद्र क्रमांक 2 में मंगलवार को प्रधानमंत्री वन्दना योजना के सम्बंध में जानकारी प्रदान की गई। जागरुकता के लिए महिलाओ के द्वारा रैली निकाली गई। आंगनबाड़ी में मंगल दिवस मनाया गया, गर्भवती महिलाएं सरिता बाई , आरतीबाई की गोद भराई रस्म की गई। उन्हें सुहाग सामग्री उपहार स्वरूप भेंट की गई । महिलाओं को मातृत्व वन्दना योजना के बारे में समझाया गया इसमें मिलने वाली राशि प्रथम, द्वितीय, तृतीय किश्तों के बारे में बताया गया । इस अवसर पर बसन्त मालवी, आबदा खान, प्रातिभा सोनी, मंनजीत कौर, शेफ खान, उषा पाल पर्यवेक्षक, कार्यकर्ता शोभा वर्मा, उषा यादव, कविता डेहरिया, जेबुन्निशा सहायिका एवं वार्ड की महिलाएं बच्चे उपस्थित रहे।

arun garhewal
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned