The rain: बारिश का प्रतिबंध हुआ बेअसर, नदियों से निकाली जा रही रेत

प्रतिबंध के बाद भी रेत की चोरी लगातार हो रही। पुलिस की कार्रवाई से इस बात का खुलासा हो रहा है कि खनिज विभाग रेत चोरी होने में नाकामयाब है।

By: babanrao pathe

Updated: 02 Aug 2020, 04:33 PM IST

छिंदवाड़ा. प्रतिबंध के बाद भी रेत की चोरी लगातार हो रही है। पुलिस की कार्रवाई से इस बात का खुलासा हो रहा है कि खनिज विभाग रेत चोरी होने में नाकामयाब है। जिले की लगभग प्रत्येक नदी से रेत की चोरी हो रही है। उमरेठ, सौंसर और चौरई थाना क्षेत्र से सबसे अधिक रेत अवैध तरीके से निकाली जा रही।

बारिश के चलते सभी नदियों में पानी आ चुका है, इसके बाद भी चोर रेत निकालने से बाज नहीं आ रहे। फिलहाल जिले के अंदर उमरेठ, सौंसर और चौरई थाना क्षेत्र में सबसे अधिक अवैध खनन और परिवहन किया जा रहा है। सौंसर और चौरई में पुलिस की कार्रवाई से कुछ हद तक चोरों में खौफ भी है, लेकिन उमरेठ और उसके आस-पास के इलाके में चोर बेखौफ है। उमरेठ थाना क्षेत्र के लोगों का कहना है कि पुलिस और खनिज विभाग की संयुक्त कार्रवाई होती है तो बड़ी रेत चोरी का खुलासा होगा। चोरी का सिलसिला पूरे साल चलता है। एक दो ट्रैक्टर ट्राली रेत पकड़कर पुलिस भी कार्रवाई की खानापूर्ति कर देती है। उमरेठ और उसके आस-पास के लोगों का आरोप है कि स्थानीय लोग मिलकर ही नदियों को खोखला कर रहे हैं। सख्ती के साथ रेत की चोरी रोकने के लिए बड़ा जुर्माना लगाया जाना चाहिए।

चौरई पुलिस ने पकड़े दो ट्रैक्टर
चौरई थाना पुलिस ने 31 जुलाई को उमरिया ईसरा तिराहा पर ट्रैक्टर क्रमांक एमपी 28 एसी 3438 को रोका जिसे राजेन्द्र अरेवा निवासी पाल्हरी चला रहा था। ट्रैक्टर ट्राली में रेत भरी हुई थी। सहायक उपनिरीक्षक भगवत प्रसाद तिवारी ने बताया कि पूछताछ पर चालक ने ट्रैक्टर मालिक का नाम ओमप्रकाश उइके निवासी पाल्हरी बताया। दूसरे ट्रैक्टर क्रमांक एमपी 28 एसी 7313 को पकड़ा जिसे कमलेश उइके निवासी ग्राम पाल्हरी चला रहा था। सहायक उपनिरीक्षक सतीश शर्मा ने बताया कि पूछताछ में चालक ने ट्रैक्टर मालिक का नाम राजकुमार धुर्वे बताया। सभी के खिलाफ रेत चोरी सहित अन्य धारा में प्रकरण पंजीबद्ध किया गया है।

Show More
babanrao pathe Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned