पुलिस को पांच माह से छका रही विधायक की पत्नी

पुलिस को पांच माह से छका रही विधायक की पत्नी
patrika news

Baban Rao Pathe | Publish: Apr, 18 2017 11:58:00 PM (IST) Chhindwara

शिकायत के बाद पुलिस ने जांच पड़ताल शुरू की तो घोटाले की रकम बढ़ती चली गई

छिंदवाड़ा. पुलिस को पिछले पांच माह से विधायक की पत्नी छका रही है। हर्रई नगर पंचायत में करोड़ों रुपए का घोटाला कर फरार हुए चार आरोपियों पर पुलिस ने दस-दस हजार रुपए का इनाम घोषित किया है। आरोपियों को गिरफ्तार करने या फिर उनका पता बताने वाले व्यक्ति की पहचान पूरी तरह से गोपनीय रखी जाएगी और उसे इनाम भी दिया जाएगा। सभी आरोपी पिछले पांच माह से फरार चल रहे हैं जिनकी तलाश में पुलिस टीम कई स्थानों पर दबिश दे चुकी है, लेकिन उनका सुराग हाथ नहीं लगा। अमरवाड़ा विधायक कमलेश शाह की पत्नी भी इस मामले में फरार है जिसकी भी पुलिस को तलाश है। मंगलवार को एसपी गौरव तिवारी ने फरार आरोपियों का पता बताने या फिर गिरफ्तार करने वाले को दस-दस हजार रुपए का इनाम देने की घोषणा की है।

हर्रई नगर पंचायत की अध्यक्ष माधवी शाह, तात्कालीन सीएमओ राजेंद्र प्रसाद, लेखापाल घनश्याम यादव एवं संविदाकर्मी राहुल यादव के खिलाफ धारा 420, 409, 408, 120 बी के तहत प्रकरण पंजीबद्ध है। सभी पर एसपी गौरव तिवारी ने दस-दस हजार रुपए के इनाम की घोषणा की है। लगातार तलाश करने के बाद भी जब आरोपी पुलिस के हाथ नहीं लगे तब मजबूरी में इनाम की घोषणा की। सभी आरोपियों ने मिलकर नपं में करोड़ों  रुपए का घोटाला किया है। साल 2012 से ही नपं में हेराफेरी शुरू हो चुकी थी, लेकिन इसकी पोल देर से खुली।उल्लेखनीय है कि तात्कालीन सीएमओ राजेंद्र प्रसाद ने 19 दिसंबर 2016 को घोटाले की शिकायत हर्रई थाना में दी थी। शिकायत के बाद पुलिस ने जांच पड़ताल शुरू की तो घोटाले की रकम बढ़ती चली गई। मामला पंजीबद्ध होने के बाद सभी आरोपी फरार हो गए।

अब तक यह हुआ
पुलिस की जांच में सामने आया है, कि हर्रई नपं कार्यालय में कैश बुक नहीं थी। साल  2012 से 2016 तक की कैश बुक पुलिस को नहीं मिली। ठेकेदारों को किए गए भुगतान में हेराफेरी सामने आई है। 42 लाख रुपए का भुगतान एक कार शोरूम को करना सामने आया। निर्माण के नाम पर फर्जी बिल लगाकर राशि निकाली गई। चेक में हेराफेरी कर बड़ी रकम निकाली गई। ऑन लाइन खातों में लाखों रुपए ट्रांसफर किए। घोटाले की रकम बढ़ती देख पुलिस ने स्पेशल ऑडिट के लिए कलेक्टर जेके जैन को पत्र लिखा। कुछ समय बाद टीम ने ऑडिट किया जिसमें लगभग ढाई करोड़ रुपए का घोटाला सामने आया है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned