scriptthere is no control in the cases of burning Narwai | सुलग रहे आदेश: जहां तक दौड़ी नजर, देखने को मिली काली चादर | Patrika News

सुलग रहे आदेश: जहां तक दौड़ी नजर, देखने को मिली काली चादर

अग्नि हादसे: प्रशासन की सख्ती और कृषि विभाग की समझाइश ताक पर, नरवाई जलाने के मामलों में नहीं लग पा रहा अंकुश

छिंदवाड़ा

Updated: April 21, 2022 10:36:54 am

प्रभाशंकर गिरी
छिंदवाड़ा।

दृश्य एक
छिंदवाड़ा-सिवनी हाईवे पर पेंच नदी के करीब 200 मीटर दूरी पर खेतों में नरवाई जलाई गई। नरवाई की आग ने देखते ही देखते हाईवे किनारे लगी झाडिय़ों और पौधों को अपनी चपेट मेें ले लिया। यहां से गुजर रहे किसी वृक्ष मित्र ने पेड़ों की झाडिय़ों के सहारे हाईवे के किनारे लगी आग को बुझाने के लिए काफी देर तक मशक्कत की।

chhindwara
chhindwara

दृश्य दो
छिंदवाड़ा और सिवनी जिले की सीमा पर बसे दो गांव सिमरिया और चक्की खमरिया के बीच तीन खेत नरवाई की आग में सुलग रहे थे। दूर से दृश्य ऐसा नजर आ रहा था मानों भीषण आग लगी हो। ग्रामीणों से पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि इस सीजन में यह दृश्य आम है। हर दूसरे तीसरे दिन कोई न कोई किसान अपने खेतों की नरवाई जला देता है।


ये दृश्य तो महज एक बानगी हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में जहां तक नजर दौड़ाएं दिन में धुआं और काली चादर नजर आती है तो वहीं रात में सुलगते हुए खेत। प्रशासन की कोशिशें और कृषि विभाग की समझाइश के बावजूद नरवाई जलाने की घटनाओं में कोई कमी नहीं आई है। वजह नरवाई जलाने पर न तो कार्रवाई का डर है न ही इससे होने पर नुकसान की जानकारी। वहीं दूसरी वजह है नरवाई को नष्ट करने के अन्य तरीकों की लागत।
बीते दिनों सेटेलाइट से दर्ज नरवाई जलाने की घटनाओं के आंकड़ों की मानें तो सिवनी जिले में एक ही दिन में ऐसी 176 घटनाएं दर्ज की गईं। उस दिन सिवनी प्रदेश में दूसरे स्थान पर रहा जबकि छिंदवाड़ा प्रदेश में 13वें स्थान पर रहा। यहां 39 घटनाएं दर्ज की गईं।

ऐसे रखी जाती है नजर
राजधानी भोपाल में भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद की क्रीम्स शाखा है। यहां सेटेलाइट से सर्वे कराया जा रहा है। इससे पता चल रहा है कि किस जिले में, किस क्षेत्र में किसान नरवाई जला रहे हैं। नरवाई जलने की सूचना कृषि विभाग को भेजी जाती है।

ढाई हजार जुर्माना
नरवाई जलाने पर कार्रवाई का प्रावधान है। दो एकड़ तक खेत में नरवाई जलाने पर 2500 रुपए, दो से पांच एकड़ खेत में नरवाई जलाने पर पांच हजार रुपए और पांच एकड़ से अधिक खेत में नरवाई जलाने पर 15 हजार रुपए का जुर्माना देना होता है।


किसका क्या पक्ष

प्रशासन
प्रशासन के मुताबिक धारा 144 के अंतर्गत जिले की भौगोलिक सीमा में खेत में खड़े फसल के अवशेष डंठलों (नरवाई) में आग लगाई जाने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। फसल कटाई के बाद अगली फसल के खेत तैयार करने के लिए किसानों द्वारा अपनी सुविधा के लिए खेत में आग लगाकर फसल काटने के उपरांत भूमि जड़ डूंठ (नरवाई) को नष्ट कर खेत साफ किया जाता है। इससे व्यापक अग्नि दुर्घटनाएं होकर जन धन की हानि होती है। इसे नरवाई में आग लगाने की प्रथा के नाम से भी जाना जाता है।

वैज्ञानिक
खेत की मिट्टी में प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले लाभकारी सूक्ष्म जीवाणु नष्ट होते हैं। इससे खेत की उर्वरा शक्ति शनै: शनै: घट रही है और उत्पादन प्रभावित हो रहा है। वास्तव में खेत में पड़ा कचरा, भूसा, डंठल, कड़वी सडऩे के बाद भूमि को प्राकृतिक रूप से उपजाऊ बनाते हैं और इन्हें जलाकर नष्ट करना ऊर्जा को नष्ट करना है। जिले में कई किसानों द्वारा रोटावेटर व अन्य साधनों से कटाई के उपरांत फसल के शेष अवशेषों को खेत से हटाने के साधन अपनाए जाने लगे हैं।

किसान
गेहूं या धान की फसल कटने के बाद जो अवशेष बचे रहते हैं उसे नरवाई कहते हैं। इसे निकालने के लिए खेत में स्ट्रा रीपर या रोटावेटर का उपयोग करना पड़ता है। कटाई की लागत ज्यादा होने की वजह से किसान नरवाई जलाने का रास्ता चुनते हैं।

किसानों को नरवाई जलाने की बजाय अवशेष में छिपे 40 फीसदी खाद के उपयोग को समझना होगा। इसके साथ ही सरकार किसानों को सब्सिडी पर अवशेष काटने वाले मल्चर, भूसा मशीन और काम्बो हार्वेस्टर उपलब्ध कराए तो इस समस्या को समाप्त किया जा सकता है।
-मेरसिंह चौधरी, जिलाध्यक्ष भारतीय किसान संघ।

नरवाई जलाने से रोकने के लिए कलेक्टर द्वारा धारा 144 के प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किए गए हैं। इसके लिए कृषि विभाग खेतों में पहुंचकर जागरुकता अभियान चला रहा है। इसके साथ ही कृषि यंत्रों से अवशेष के उपयोग पर भी ध्यान केन्द्रित कराया गया हैं।
-जितेन्द्र कुमार सिंह, उपसंचालक कृषि।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

पंजाब की राह राजस्थान: मंत्री-विधायक खोल रहे नौकरशाही के खिलाफ मोर्चा, आलाकमान तक शिकायतेंद्वारकाधीश मंदिर में पूजा के साथ आज शुरू होगा BJP का मिशन गुजरात, मोदी के साथ-साथ अमित शाह भी पहुंच रहेVIP कल्चर पर पंजाब की मान सरकार का एक और वार, 424 वीआईपी को दी रही सुरक्षा व्यवस्था की खत्मओडिशा में "भ्रूण लिंग" जांच गिरोह का भंडाफोड़, 13 गिरफ्तारमां की खराब तबीयत के बावजूद बल्लेबाजों पर कहर बनकर टूटे ओबेड मैकॉय, संगकारा ने जमकर की तारीफRenault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चAnother Front of Inflation : अडानी समूह इंडोनेशिया से खरीद राजस्थान पहुंचाएगा तीन गुना महंगा कोयला, जेब कटना तयसुकन्या समृद्धि योजना में सरकार ने किए बड़े बदलाव, जानें क्या है नए नियम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.