मानव संसाधन विकास मंत्री के गांव के ये देखिए हालात

देखरेख और निगरानी के अभाव में यह गांव अभी तक आदर्श नहीं बन पाया है।

By: manohar soni

Published: 10 Feb 2018, 01:00 PM IST

छिंदवाड़ा. केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर द्वारा ग्राम खुटिया झंझरिया को गोद जरूर लिया गया है लेकिन देखरेख और निगरानी के अभाव में यह गांव अभी तक आदर्श नहीं बन पाया है। स्थिति यह है कि गांव में जुलाई में लगाए गए पौधे लापरवाही की भेंट चढ़ गए हैं। जबकि इन प्लांटेशन पर लाखों रुपए का बजट मनरेगा से खर्च किया गया है।
मनरेगा की वेबसाइट में दर्ज जानकारी के मुताबिक इस गांव में अकेले माता मंदिर के पास १.१२ लाख रुपए खर्च किए गए। इसी तरह उमरिया रोड से नदी तक ,नदी पार रोड से नागदेव तक,लोहारटोला से बांका रोड,पंचायत के सामने से दादरटोला,चमारीढाना प्राथमिक स्कूल से घोघरा रोड और फूलसिंह के मकान से मेहराकोला तक करीब दो लाख रुपए का खर्च दिखाया गया। इन पौधों की सुरक्षा के लिए पौधरक्षक भी नियुक्त किए गए। इन मजदूरों की मजदूरी भी कागजों पर लगातार निकाली जा रही है। जबकि वास्तविक स्थिति यह है कि इन प्लांटेशन में से आधे से ज्यादा पौधे सूख गए हैं। कहीं पौधे दिखाई नहीं देते हैं तो कहीं उनका ठंूठ नजर आता है। कहीं-कहीं आसपास केवल बाड़ लगाकर रखी गई है। स्थल पर जाकर देखने पर पंचायत पदाधिकारियों का कारनामा स्पष्ट नजर आता है। आश्चर्यजनक यह है कि जनपद से लेकर जिला पंचायत तक अधिकारियों की लम्बी चौड़ी सूची है। उनकी आंखों में भी ये सूखता प्लांटेशन और कागजों में निकलती राशि नजर नहीं आ रही है।

४० लाख का पेयजल प्रोजेक्ट अटका
इस ग्राम में पेयजल संकट दूर करने के लिए पीएचई विभाग द्वारा ४० लाख रुपए का प्रोजेक्ट भी बनाया गया है लेकिन अभी तक इस पर काम शुरू नहीं किया गया है। जबकि गर्मी का आगाज होने लगा है। पीएचई के अधिकारी-कर्मचारी लापरवाह बने हुए हैं। हर बार गांव का दौरा आश्वासन दे देते हैं लेकिन अभी तक मैदानी स्तर पर पाइप लाइन बिछाने से लेकर अन्य काम बिलकुल भी नहीं किए हैं।

इनका कहना है..
पंचायत में पौधरोपण को सुरक्षित रखने के लिए कई बार सचिव को समझाइश दी गई है लेकिन वह ध्यान नहीं दे रहा है। देखरेख के अभाव में पौधे सूखते जा रहे हैं। इस लापरवाही पर अधिकारियों को ध्यान देना चाहिए।
-पार्वती शंकर उइके, जिला पंचायत सदस्य
पंचायत में नौ स्थलों पर पौधे लगाए गए हैं। गांव में कहीं पौधे सूख रहे हैं या कहीं लापरवाही हुई है तो हम इसका परीक्षण कराएंगे और आवश्यक कार्रवाई करेंगे।
-कंचन वास्कले, सीईओ जनपद पंचायत छिंदवाड़ा

Patrika
manohar soni Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned