मलेरिया की चपेट में छिंदवाड़ा का यह क्षेत्र, जानें स्थिति

एक महीने में मिले सबसे अधिक पॉजिटिव केस

By: Dinesh Sahu

Published: 21 Nov 2020, 12:01 PM IST

छिंदवाड़ा/ जिले के हर्रई ब्लाक में मलेरिया का प्रकोप बढ़ गया है। स्थिति यह है कि एक ही महीने में 28 प्रकरण सामने आए है, जबकि अन्य विकासखंड़ जिसमें जुन्नारदेव में दो, छिंदवाड़ा में तीन तथा तामिया में एक प्रकरण सामने आए है। स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार हर्रई के ग्राम ओझलढाना और रातेड़ में स्थिति काफी खराब है।

गांव के करीब 13 ढानों एक दर्जन से अधिक मलेरिया के मरीज मिलने पर स्वास्थ्य अमला हरकत में आया और गांव में विशेष अभियान के तहत मॉस सर्वे किया गया तथा 400 से अधिक लोगों की रेपिट टेस्ट किट से जांच कराई गई, जिनमें 12 केस ओझलढाना और रातेड़ के शामिल है। चिकित्सा अधिकारियों का दावा है कि ब्लाक में मलेरिया फिलहाल नियंत्रण में है तथा पहले मिले मरीजों का आरटी वैरिफिकेशन और फॉलोअप लेने पर तबीयत स्वस्थ होना पाया गया है।


60 हजार बांटी गई मेडिकेटेड मच्छरदानी -


बताया जाता है कि ब्लाक में 60 हजार मच्छरदानी पिछले माह में बांटी गई तथा ऐसे क्षेत्र जहां दो वर्ष पहले मच्छरदानी ग्रामीणों को दी गई थी, वहां भी केस मिल रहे है। जिला मलेरिया विभाग द्वारा मच्छरदानी बांट कर औपचारिकता पूरी कर देना इसकी वजह बताई जाती है। विभागीय अधिकारी भी कभी-कभार ही हाईरिस्क क्षेत्र में जायजा लेने पहुंचते है।


यह है हर्रई की स्थिति -


1. माह अक्टूबर में कुल जांच की गई - 4000


2. माह अक्टूबर में कुल मिले केस - 28


3. हाईरिस्क गांव में मॉस सर्वे में की गई जांच - 400


4. प्रभावित ढानों में मिले नए केस - 12


5. ब्लाक में बांटी गई मच्छरदानी - 60 हजार


- स्थिति नियंत्रण में है -


ब्लाक मलेरिया के मामले में पहले से ही हाईरिस्क जोन में शामिल है तथा पिछले माह जो केस सामने आए थे, उन्हें उचित उपचार देकर स्वस्थ कर दिया गया है। इसके चलते अब स्थिति नियंत्रण में है।


- डॉ. पीयूष शर्मा, बीएमओ हर्रई

COVID-19
Show More
Dinesh Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned