अब प्रशासन के सामने होंगी दो चुनौतियां, प्रशासनिक सर्जरी और...

दो माह के बाद पटरी पर लौटा प्रशासनिक कामकाज, कलेक्टर ने अधिकारियों के साथ ली टीएल बैठक: दोबारा काम पर जुटने को कहा

By: prabha shankar

Published: 18 Dec 2018, 11:15 AM IST

छिंदवाड़ा. विधानसभा चुनाव की दो माह की व्यस्तता के बाद सोमवार को प्रशासनिक कामकाज पटरी पर लौट आया। आचार संहिता समाप्त होने पर कलेक्टर वेदप्रकाश ने कलेक्ट्रेट में अधिकारियों के साथ समय सीमा की बैठक की और उन्हें दोबारा सरकारी काम को गति देने के लिए कहा। नगर निगम में भी अधिकारी-कर्मचारी पुरानी फाइलों को देखते नजर आए। दूसरे सरकारी कार्यालयों की भी रौनक लौटते दिखाई दी।
कलेक्टर ने विभागीय कामकाज की समीक्षा करते हुए लम्बित प्रकरणों का तत्परता से निराकरण कराने और जवाब दावे, जमीन, सडक़, विभागीय समन्वय तथा अन्य विकासात्मक कार्यों में आने वाले गतिरोध को शीघ्र दूर करने की बात कहीं।

प्रशासनिक सर्जरी और नई नीतियां
कमलनाथ सरकार के पदारूढ़ होते ही प्रशासन के सामने कामकाज को लेकर दो चुनौतियां है- एक प्रशासनिक सर्जरी और दूसरी सरकारी नीतियां।
अभी तक अधिकारी-कर्मचारी शिवराज सरकार की नीतियों के अनुरूप जनकल्याणकारी योजनाओं को गति देने में लगे थे। कांग्रेस सरकार आने के बाद परिस्थितियां बदल गई । एक पखवाड़े में प्रशासनिक सर्जरी में प्रमुख अधिकारियों के बदले जाने की सम्भावना है तो वहीं नई सरकारी नीतियां घोषित हो सकती हंै। इसे देखते हुए प्रशासन देखो और इंतजार करो की नीति में फूंक-फूंक कर कदम रख रहा है।

परासिया बीआरसी निलंबित
कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी वेद प्रकाश द्वारा विधानसभा निर्वाचन में डाक मतपत्र संबंधी कार्य में लापरवाही बरतने और समय पर कार्यवाही पूर्ण नहीं करने पर विकासखंड तामिया के ग्राम जैतपुर की शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला के वरिष्ठ अध्यापक एवं विकासखंड परासिया के प्रभारी बीआरसी अनूप केचे को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है । निलम्बन अवधि में केचे का मुख्यालय जिला पंचायत छिन्दवाड़ा में रहेगा और उन्हें नियमानुसार जीवन निर्वाह भत्ते की पात्रता रहेगी

prabha shankar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned