Vaccination: कतार में लगने के बाद वापस हो रहे लोग..आखिर क्या है मामला

प्रशासन के इंतजाम पर जनता में आक्रोश,बोर्ड से भी नहीं दी जा रही जानकारी

By: manohar soni

Published: 27 Jun 2021, 11:10 AM IST

छिंदवाड़ा. कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर की संभावना पर समाज में आई जागृति से शहर समेत आसपास के टीकाकरण केन्द्रों में इस समय भीड़ उमड़ रही है लेकिन कोरोना टीका के सीमित डोज के चलते लोग घंटों कतार में लगने के बाद वापस हो रहे हैं। इस पर आम जनता में आक्रोश बनता जा रहा है।
शनिवार को शहर समेत पूरे जिले में 20 हजार वैक्सीन डोज आए थे। प्रशासन द्वारा जरूरत के हिसाब से टीकाकरण केन्द्रों में औसत 300 डोज दिए गए थे। ये डोज टीकाकरण केन्द्रों में पहुंचते ही चंद घंटों में समाप्त हो गए। इससे कतार में खड़े लोगों को परेशानी उठानी पड़ी और बिना वैक्सीन लगाए घर वापस जाना पड़ा। ग्राम नोनिया करबल में भी वैक्सीन के डोज जल्द खत्म हो गए। इसके चलते लोग लंबी कतार में खड़े रहे। उन्हें वापस लौटना पड़ा।
...
खजरी-झिरलिंगा में सेकण्ड डोज के लिए वापस
खजरी और झिरलिंगा में भी वैक्सीन के डोज जनता के आगे कम पड़ गए। इसके साथ ही सेकण्ड डोज लगवाने के इच्छुक लोगों को इंतजाम न होने पर वापस घर लौटना पड़ा। इस पर खजरी के सामाजिक कार्यकर्ता लवकेश यादव ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखा। यादव ने कहा कि सामाजिक संस्थाओं के माध्यम से टीकाकरण का प्रचार हो रहा है लेनि वैक्सीन के इंतजाम पर्याप्त नहीं है। ताजा मामला ग्राम झिरलिेगा का है, जहां वैक्सीन सेंटर पर कोई नोटिस बोर्ड नहीं लगाए गए। सबसे बड़ी समस्या कोवैक्सीन के सैकेंड डोज कैम्पों में उपलब्ध नहीं है जो 28 दिन बाद लगना था।90 दिनों से ज्यादा हो चुके हैं कोवैक्सीन नहीं लग रही। लोग वापस जा रहे हैं। इसके बोर्ड में सूचना तो दी जाना चाहिए।
..
चार लाख से अधिक पहुंचा टीकाकरण का रिकार्ड
छिंदवाड़ा. जिले में अभी तक 4 लाख 2 हजार 106 व्यक्तियों द्वारा कोविड-19 टीके की प्रथम और द्वितीय डोज लगवाई जा चुकी है जिसमें 3 लाख 31 हजार 937 व्यक्तियों की प्रथम व 70 हजार 169 व्यक्तियों की द्वितीय डोज शामिल है। 18 से 44 वर्ष के एक लाख 36 हजार 695 व्यक्तियों को प्रथम व 2 हजार 633 व्यक्तियों को द्वितीय डोज शामिल है।

manohar soni Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned