छतों से टपकता है पानी, हो गई जर्जर

विकासखंड अन्तर्गत ग्राम पंचायत बाम्हनवाड़ा के ग्राम हिरदागढ़ में संचालित उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बाम्हनवाड़ा का स्कूल भवन वर्तमान में बदतर स्थिति में पहुंच चुका है।

By: SACHIN NARNAWRE

Published: 01 Jul 2019, 04:59 PM IST

जुन्नारदेव. विकासखंड अन्तर्गत ग्राम पंचायत बाम्हनवाड़ा के ग्राम हिरदागढ़ में संचालित उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बाम्हनवाड़ा का स्कूल भवन वर्तमान में बदतर स्थिति में पहुंच चुका है। स्कूल प्राचार्य द्वारा कई बार शासन प्रशासन को इससे अवगत कराया जा चुका है और नये स्कूल भवन की मांग भी की जा चुकी है किन्तु इस ओर न तो शासन प्रशासन कोई ध्यान दे रहा है और न ही जनप्रतिनिधि हस्तक्षेप कर रहे है। ऐसी स्थिति में स्कूल का यह भवन अब बच्चों के लिए जान का दुश्मन बन गया है। स्कूल की छत पूर्णत: जर्जर स्थिति में पहुंच गई है तो वहीं अंग्रेजी कबेलू से बने इस स्कूल की छत पर बंदरों ने उछलकूद कर छत के कबेलू क्षतिग्रस्त कर दिया है।
ऐसे में इन बारिश के दिनों में स्कूली बच्चों का स्कूल के कमरों में बैठना भी दूभर हो जाएगा। एक ओर तो शासन प्रशासन शिक्षा के स्तर को ऊंचा उठाने के लिए योजनाओं में अरबों रुपए बर्बाद कर रहे है जिसका नतीजा भी शून्य पर ही आंका जा रहा है ।
स्कूल प्राचार्य द्वारा बताया गया कि यह स्कूल सन् 1974 से इसी तरह चला आ रहा है इसकी छत वर्तमान में पूर्णत: जर्जर हो चुकी है और कई बार इसकी मरम्मत कराई गयी है। वहीं लकड़ी के सड़ जाने पर इसमें सपोर्ट भी लगाया गया है साथ ही उच्चाधिकारियों को भी इससे अवगत करा दिया गया है। स्कूल के पास 14 एकड़ भूमि भी है किन्तु स्कूल को नवीन भवन का इंजतार कई वर्षों से है।
बच्चे कैसे करे पढ़ाई
ग्राम पंचायत बाम्हनवाड़ा के इस उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के भवन बच्चे वर्तमान में खौफ के साये में पढ़ाई कर रहे है। स्कूल की छत इतनी बुरी तरह क्षतिग्रस्त है कि कभी भी कोई हादसा घटित हो सकता है ऐसे में क्या शासन प्रषासन और अधिकारी इस और तत्काल कोई ध्यान देकर वैकल्पिक व्यवस्था बना पायेंगे यह सोचनीय है। फिलहाल नये सत्र में स्कूल में प्रवेष जारी है और आसपास के दर्जनों ग्रामों में एकमात्र उच्चतर माध्यमिक विद्यालय होने के कारण सैकड़ों ग्रामीण बच्चे इसी जर्जर स्कूल भवन में षिक्षा अध्ययन करने को विवष है तो वहीं षिक्षक भी अपनी जान और बच्चों की जान को दांव पर लगाकर अध्यापन कार्य करने को मजबूर है।
ग्रामीणों और स्कूल स्टाफ ने की नये भवन निर्माण की मांग
गौरतलब हो कि बाम्हनवाड़ा के ग्राम हिरदागढ़ में स्थित एकमात्र उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के पास लगभग 14 एकड़ भूमि है जो वर्तमान में खाली पड़ी हुई है। ग्रामीणों एवं स्कूल स्टाफ ने उक्त रिक्त भूमि पर नये स्कूल भवन निर्माण की मांग शासन प्रशासन से की है जिससे बच्चे बिना खौफ के शिक्षा प्राप्त कर सके। वहीं नवीन स्कूल भवन का निर्माण कार्य होने से बच्चों के साथ शिक्षकों को भी इसका लाभ प्राप्त होगा।

SACHIN NARNAWRE
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned