एेसी कौन सी मुसीबत आई,प्रथम पूज्य से मांगनी पड़ी मनौती

एक माह से रुठे इंद्रदेव को मनाने के लिए समूचा नगर निगम प्रथम पूज्य भगवान गणेश की शरण में पहुंच गया है।

By: manohar soni

Published: 18 Aug 2017, 11:55 AM IST


छिंदवाड़ा.एक माह से रुठे इंद्रदेव को मनाने के लिए समूचा नगर निगम प्रथम पूज्य भगवान गणेश की शरण में पहुंच गया है। शहरी जल आपूर्ति के केन्द्र कन्हरगांव जलाशय में कम पानी के तनाव के बीच महापौर कांता सदारंग, नगर निगम अध्यक्ष धर्मेन्द्र मिगलानी,कमिश्नर इच्छित गढ़पाले समेत पदाधिकारियों और अधिकारियों ने गुरुवार को निगम कार्यालय स्थित गणेश मंदिर में हवन-पूजन किया तथा अच्छी बारिश के लिए मनौती मांगी।
एक दिन पहले बुधवार को इन पदाधिकारियों ने कन्हरगांव डैम का निरीक्षण किया था और उसमें एक माह का पानी शेष होना पाया था। पिछले एक माह से बारिश न होने से डैम का जल स्तर केवल ७०७.०२ मीटर यानि १.१५ एमसीएम लाइव पानी पर बना हुआ है। इस डैम का सबसे कम लेवल ७०६.२२ है। इसके बाद डैड स्टोरेज लग जाता है। कन्हरगांव डैम में पानी कम होने से चिंतिंत नगर निगम पहली बार आध्यात्मिक दिखाई दिया। निगम परिसर स्थित गणेश मंदिर में हुए हवन-पूजन में पदाधिकारी-अधिकारी और कर्मचारियों ने एक राय होकर बारिश मांगी। महापौर सदारंग ने कहा कि भगवान गणेश समेत सभी देवी-देवता हमारे शहर की पुकार सुनें। अच्छी बारिश से ही हम शहर को नियमित पानी की सप्लाई कर सकते हैं। इसके अभाव में पानी की कटौती करनी पड़ेगी वहीं अन्य संकटकालीन कदम उठाने पड़ेंगे।

विधायक भी चिंता में, कहा-परिवहन करना पड़ेगा
बारिश न होने की चिंता विधायक चौधरी चंद्रभान सिंह के माथे पर भी दिखाई दी। निगम के योजना कार्यालय के शुभारंभ पर विधायक ने कहा कि बारिश न हुई तो निगम को एक दिन के अंतराल में पानी आपूर्ति का निर्णय लेना पड़ेगा। इसके साथ ही पेयजल का परिवहन समेत अन्य संकटकालीन उपाय करने पड़ेंगे। माचागोरा बांध से भी पानी परिवहन करने की नौबत बन सकती है।

माचागोरा बांध की वजह से नागपुर में टेंशन, १५ दिन का पानी शेष
पेंच परियोजना के अधीन माचागोरा बांध में पेंच नदी का पानी रुकने से महाराष्ट्र का महानगर नागपुर तनाव में आ गया है। इस साल बारिश न होने से तोतलाडोह जलाशय में पर्याप्त पानी संग्रहित नहीं हो पाया। इसके चलते वहां के डैम में १५ दिन का पानी शेष बचा है। नागपुर के पालक मंत्री ने पेयजल संकट से निपटने के लिए मप्र सरकार की मदद मांगी है।
नागपुर के पालकमंत्री चंद्रशेखर बावनकुले ने देशपांडे सभागृह में जिला नियोजन समिति की बैठक के बाद पत्रकारों से कहा कि बारिश कम होने से पेंच जलाशय में पानी घटा है। तोतलाडोह में पिछले वर्ष इस माह के दौरान करीब 80 प्रतिशत जलभंडारण था। इस साल वह मात्र 11 प्रतिशत रह गया है। पालकमंत्री ने बताया कि पेंच नदी पर मध्य प्रदेश सरकार ने बांध बनाया है। इस बांध की पूरी लागत मध्य प्रदेश सरकार ने दी है,इसलिए उन्हें पानी रोकने से मना नहीं किया जा सकता। लेकिन इस बांध के बनने के बाद तोतलाडोह बांध परियोजना में पानी पहुंचना बंद हो गया है। स्थितियां नहीं सुधरी तो जल्द मुख्यमंत्री के माध्यम से पानी उपलब्धता पर मध्य प्रदेश के साथ करार करने के लिए कहना होगा। नागपुर शहर मप्र की पेंच नदी के पानी पर निर्भर है। चौरई बांध के कैचमेंट एरिया से पानी खींचकर तोतलाडोह तक लाने के लिए 1800 करोड़ रुपए की पाइप लाइन डाले जाने का प्रस्ताव मध्य प्रदेश सरकार को दिया गया है।

manohar soni Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned