माइक्रो फाइनेंस के दफ्तर में लाखों की चोरी

फ्यूजन माइक्रो फाइनेंस कम्पनी के कार्यालय से अज्ञात  ने तीन लाख चालीस हजार 950 रुपए गायब कर दिए। 

By: Prashant Sahare

Published: 12 Jan 2017, 12:59 AM IST

छिंदवाड़ा (पांढुर्ना). सुभाष वार्ड में सरस्वती शिशु उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के पास में रहने वाले प्रो.पुष्पा सिंह के मकान में किराए से ऑफिस चला रही फ्यूजन माइक्रो फाइनेंस कम्पनी के कार्यालय से अज्ञात  ने तीन लाख चालीस हजार 950 रुपए गायब कर दिए। इस घटना को लेकर पुलिस का संदेह कम्पनी के ही कर्मचारी पर है, क्योंकि घटना को अंजाम देने के लिए मुख्य द्वार का ताला तोड़ा नहीं गया। मिली जानकारी के अनुसार माइक्रो फाइनेंस कम्पनी के ब्रांच मैनेजर राघवेन्द्र पटेल ने पुलिस में इस बात की सूचना दर्ज कराई है। मंगलवार को दिन भर कलेक्शन कर के तीन लाख चालीस हजार 950 रुपए लाए गए थे। जिसे कार्यालय के तिजोरी में रख दिए थे। सुबह लगभग 7 बजकर 45 मिनट पर राघवेन्द्र ऑफिस को ताला लगाकर अंबाड़ा की ओर महिला समूहों से वसूली करने चले गए थे। दोपहर एक बजे जब उन्होंने वापस लौटकर देखा तो मुख्य दरवाजे का ताला खुला हुआ था। अंदर जाने पर पता चला कि तिजोरी का ताला भी खुला हुआ है और सारे रुपए गायब हैं। राघवेन्द्र ने अपने सभी फील्ड ऑफिसरों को बुलाकर घटना की जानकारी दी। इसके बाद पुलिस को घटना की जानकारी दी गई। घटनास्थल पर पहुंचे थाना निरीक्षक आर एन खातरकर और एस आईएलपी गुप्ता ने आस पड़ोसियों से घटना को लेकर चर्चा की।

पुलिस को इन पर संदेह


इस मामले में पुलिस अधिकारी यह मानने को तैयार नहीं है कि बिना किसी की मिलीभगत के इस घटना को अंजाम दिया गया है। पुलिस के इस संदेह पर ब्रांच मैंनेजर राघवेन्द्र का कहना है कि उन्हें संदेह है कि स्टॉफ के ही किसी ने डुप्लीकेट चाबी लगाकर ताले खोले हैं और रुपए पर हाथ साफ  कर दिए हैं। मामले की जांच की जा रही है।

रिहायशी इलाके में ऑफिस


सरस्वती शिशु उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के बाजू में रहने वाले लोगों ने बताया कि जिस वक्त दोपहर 12 के आसपास घटना होने की बात कही जा रही है उस समय यहां काफी चहल-पहल होती है। किसी संदिग्ध ने इस प्रकार की घटना को अंजाम देना संभव नहीं है। यहां क्षेत्रवासियों ने किसी को नहीं देखा। 
Prashant Sahare
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned