किस खतरे से अंजान हैं हम, किसकी करनी होगी रक्षा, पढि़ए पूरी खबर

किस खतरे से अंजान हैं हम, किसकी करनी होगी रक्षा, पढि़ए पूरी खबर

Ashish Kumar Mishra | Publish: Apr, 23 2019 12:19:08 PM (IST) | Updated: Apr, 23 2019 12:19:09 PM (IST) Chhindwara, Chhindwara, Madhya Pradesh, India

सभी कारकों को हम बूरी तरह प्रभावित कर रहे हैं।


छिंदवाड़ा. एक तरफ हम धरती को माता कहते हैं और दूसरी तरफ अपने निजी स्वार्थों के चलते हम इसे प्रदूषित कर रहे हैं। अगर ऐसा ही चलता रहा तो वह दिन दूर नहीं जब पृथ्वी से जीव-जन्तु व वनस्पति का अस्तित्व ही समाप्त हो जाएगा। जीव-जन्तु अंधे हो जाएंगे। लोगों की त्वचा झुलसने लगेगी और कैंसर रोगियों की संख्या बढ़ जाएगी। समुद्र का जलस्तर बढऩे से तटवर्ती इलाके चपेट में आ जाएंगे। पृथ्वी बहुत व्यापक शब्द है, जिसमें जल, हरियाली, वन्यप्राणी, प्रदूषण और इससे जुड़े अन्य कारक भी हैं। इन सभी कारकों को हम बूरी तरह प्रभावित कर रहे हैं। ऐसे में जरूरत है कि हम अपनी धरती मां की रक्षा करें। यह बातें सोमवार को विश्व पृथ्वी दिवस पर शासकीय कन्या शिक्षा परिसर के धनवंतरी इको क्लब में पर्यावरण नियोजन समन्वय संघठन एप्को, भोपाल के सहयोग से ‘प्रजातियों के संरक्षण’ विषय पर आयोजित कार्यशाला में विषय विशेषज्ञों ने कही। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के संजय राजपूत ने विद्यार्थियों से कहा कि पालीथीन पर प्रतिबंध लग चुका है। अगर कोई बेचते पाया जाता है तो आप तत्काल सूचना दे सकते हैं। इको क्लब के नोडल अधिकारी विनोद तिवारी ने विद्यार्थियों को पर्यावरण संरक्षण का संदेश देकर धरा को प्रदूषित होने से बचाने में अपना योगदान देने का संकल्प दिलाया। प्राचार्य बीअल्पना कुमार ने गीत के माध्यम से जागरूक किया। कार्यक्रम का संचालन प्रदीप कुमार शर्मा ने किया। इस अवसर पर विशेष रूप से कार्यक्रम प्रभारी गीता सारवान, प्रदीप शर्मा, अक्षय जैन, पुष्पेंद्र मिश्रा, पूर्णिमा एवं अन्य स्टाफ, इको क्लब के विद्यार्थी मौजूद रहे।

चित्रकला के माध्यम से संदेश
कार्यशाला के पूर्व इको क्लब द्वारा विश्व पृथ्वी दिवस पर विविध कार्यक्रम आयोजित किए गए। सुबह विद्यार्थियों ने जागरूकता रैली निकालकर लोगों को पर्यावरण का महत्व बताया। विद्यार्थियों ने चित्रकला प्रतियोगिता में शामिल होकर प्रजातियों के संरक्षण का संदेश दिया। प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पर निशा धुर्वे, द्वितीय अंशी परतेती एवं तृतीय स्थान पर ऋतु मरकाम रही। इन्हें अतिथियों के हस्ते पुरस्कृत किया गया। कार्यक्रम में विद्यार्थियों को पर्यावरण संरक्षण एवं जैव विविधता पर आधारित जागरुकता फिल्म दिखाई गई। कार्यशाला में इको क्लब के विद्यार्थियों को पक्षियों को पीने के पानी के लिए मिट्टी के पात्र बांटे गए।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned