कोरोना खौफ: महत्वपूर्ण मंदिरों तीर्थ स्थलों पर नो इंट्री उठाए गए ये कदम

भगवान राम की तपोभूमि में भी एहतियातन कदम उठाते हुए सभी प्रमुख मंदिरों को 31 मार्च तक लिए बंद कर दिया गया है

चित्रकूट: कोरोना से निपटने के लिए धार्मिक स्थलों पर आस्थावानों की नो इंट्री का सिलसिला जारी है. देश प्रदेश के कई बड़े मंदिर बन्द कर दिए गए हैं श्रद्धालुओं के लिए. गंगा यमुना जैसी पवित्र नदियों की नित्य होने वाली आरती पर भी श्रद्धालुओं के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है जिससे भीड़ एक जगह पर एकत्र न होने पाए. इसी क्रम में भगवान राम की तपोभूमि में भी एहतियातन कदम उठाते हुए सभी प्रमुख मंदिरों को 31 मार्च तक लिए बंद कर दिया गया है. पवित्र मंदाकिनी नदी की होने वाली सायंकाल की नित्य आरती के दौरान श्रद्धालुओं के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है.


बंद हुए भगवान कामदगिरि के कपाट

कोरोना वायरस को फैलने से रोकने में सोशल डिस्टेंस को सबसे ज़्यादा महत्व दिया जा रहा है. लोगों की भीड़ एक जगह एकत्र न होने पाए इसको लेकर हर स्तर पर कोशिशें की जा रही हैं. धार्मिक स्थान ऐसी भीड़ के सबसे खास माध्यम होते हैं. कोरोना से निपटने उससे सावधानी बरतने के कदम के तहत धर्मनगरी स्थित भगवान कामदगिरि मंदिर के कपाट बंद कर दिए गए हैं. 31 मार्च तक मंदिर श्रद्धालुओं के लिए बंद रहेगा. सिर्फ भगवान के भोग व आरती की व्यवस्था रहेगी चुनिंदा पुजारियों के द्वारा.

अन्य तीर्थ स्थल भी बंद


इसके अलावा अन्य तीर्थ स्थल भी बन्द कर दिए गए हैं. हनुमान धारा गुप्त गोदावरी सती अनुसुइया जैसे महत्वपूर्ण तीर्थ क्षेत्रों में श्रद्धालुओं के प्रवेश पर रोक लगाई गई है. आम दिनों में इन स्थानों पर लोगों की खासी भोड़ होती है दर्शन पूजन हेतु.


होटल धर्मशालाओं को भी एडवाइजरी जारी

कोरोना को लेकर तीर्थ क्षेत्र के होटलों धर्मशालाओं को भी एहतियात बरतने की सलाह दी गई है. ऑन लाइन बुकिंग निरस्त करने को कहा गया है. साधु संतों के साथ बैठक कर उन्हें भी मठों आश्रमों में जरूरी कदम उठाने को कहा गया है. दरअसल चित्रकूट यूपी व एमपी दो राज्यों के मध्य पड़ता है. कई तीर्थ क्षेत्र इन दोनों राज्यों के बीच स्थित हैं. इसी के मद्देनजर दोनों राज्यों के उच्चाधिकरियों ने अपने अपने क्षेत्र में कोरोना को लेकर सभी जरूरी एहतियात बरतने के निर्देश दिए हैं. चित्रकूट(यूपी) डीएम शेषमणि पांडेय ने बताया कि रामघाट पर होने वाली गंगा आरती को 31 मार्च तक के लिए स्थगित किया गया है. मंदाकिनी सेवा ट्रस्ट ने बताया कि सिर्फ सूक्ष्म रूप से आरती होगी श्रद्धालुओं के प्रवेश पर रोक रहेगी. वहीं चित्रकूट(एमपी) के एसडीएम हेमकरण धुर्वे ने बताया कि न तो उनके हिस्से व न यूपी के हिस्से वाले चित्रकूट में अभी कोई मामला कोरोना संगदिग्ध का आया है फिर भी एहतियात के तौर पर सभी जरूरी कदम उठाए गए हैं.

आकांक्षा सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned