covid-19-लॉकडाउन: बीहड़ में बसे गांव भी दे रहे सोशल डिस्टेंसिंग का ख़्याल रखने की सीख

कोरोना से युद्ध करने में पूरा हिंदुस्तान लगा है

चित्रकूट: संपूर्ण देश में लॉकडाउन का आज तीसरा दिन है. कोरोना से युद्ध करने में पूरा हिंदुस्तान लगा है. क्या शहर क्या कस्बे व क्या गांव. हर जगह इस अदृश्य दानव का खौफ बढ़ता जा रहा है. कोरोना से लड़ने में सोशल डिस्टेंसिंग एक कारगार उपाय के रूप में दुनिया के सामने आया है यानी सामाजिक दूरी. इस दूरी को मेंटेन करने के लिए ही पूरे देश को 21 दिन के लिए लॉकडाउन कर दिया गया है. सोशल डिस्टेंसिंग पर पूरा जोर दिया जा रहा है कि इसका पालन किया जाए. राशन फल सब्जी दूध दवा आदि जरूरत की दुकानों पर इसका खास ध्यान रखने की हिदायत दी जा रही है.

गांव में रख रहे ख़्याल हो रही पहल


लॉकडाउन के तहत सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हर किसी के लिए अनिवार्य बताया जा रहा है. पीएम मोदी ने भी अपनी मीटिंग में भी इसका ख़्याल रखा जिसकी तस्वीरें वायरल हुईं. दूसरी तरफ शहरी ग्रामीण व कस्बाई इलाकों से ऐसी तस्वीरें आ रही हैं जिसमें लोग अपनी जरूरतों की चीजों को लेने के दौरान इसका पालन नहीं कर रहे जो खतरनाक है. वहीं कई ऐसी तस्वीरें भी सामने आ रहीं जिनसे सोशल डिस्टेंसिंग की सीख मिल रही है. ये तस्वीरें दूर दराज के गांव की हैं जहां ग्रामीण व दुकानदार इसका बखूबी पालन कर रहे हैं. बतौर उदाहण जनपद के बीहड़ में बसे गढ़चपा गांव में ग्रामीण राशन आदि लेते समय सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते देखे जा रहे हैं. यही नहीं गांव के प्रधान द्वारा लाऊड स्पीकर से ग्रामीणों को लॉकडाउन व सोशल डिस्टेंसिंग के बारे में जागरूक भी किया जा रहा है.


डोर टू डोर राशन पहुंचाने की भी व्यवस्था


इस बीच प्रशासन ने जनपद के हर गांव कस्बों में डोर टू डोर राशन पहुंचाने की व्यवस्था भी की है. इसके लिए कई वाहनों को रवाना कर दिया गया है आवश्यक दैनिक उपयोग की वस्तुओं के साथ. डीएम एसपी खुद बाहर निकलकर लॉकडाउन का जायजा ले रहे हैं. कुछ अपवादों को छोड़कर भगवान राम की तपोभूमि में लॉकडाउन सफल दिख रहा है.

COVID-19
आकांक्षा सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned