दुकान में सो रहा था युवक कि अचानक आए हथियारबंद बदमाशों ने किया ये काम, इलाके में सनसनी

दुकान में सो रहे युवक का आधा दर्जन से अधिक हथियारबंद बदमाशों ने अपहरण कर लिया।

चित्रकूट. दुकान में सो रहे युवक का आधा दर्जन से अधिक हथियारबंद बदमाशों ने अपहरण कर लिया। घटना से पूरे इलाके में सनसनी फ़ैल गई है। पुलिस ने अपह्रत की तलाश में जंगलों में कॉम्बिंग की लेकिन कोई सफलता नहीं मिली। मुखबिरों को सक्रीय करते हुए अपहर्ताओं की सुरागरसी का प्रयास खाकी की ओर से किया जा रहा है। अपह्रत के परिजनों ने गांव के ही आठ लोगों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज कराई है। पुलिस ने कई बिंदुओं को ध्यान में रखते हुए छानबीन शुरू कर दी है।


पुरानी रंजिश को लेकर एक युवक का असलहाधारी बदमाशों ने उस वक्त अपहरण कर लिया जब वह अपनी दुकान में सो रहा था। युवक को जगाते हुए बदमाश उसे जंगल की ओर ले गए। घटना की सूचना पर पुरे गांव में हड़कम्प मच गया। मौके पर पहुंची पुलिस ने लोगों तथा परिजनों से पूछताछ करते हुए छानबीन शुरू की। उधर अपह्रत युवक के परिजनों ने गांव के ही आठ व्यक्तियों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज करवाते हुए उनपर डकैतों के साथ मिलकर वारदात को अंजाम देने का आरोप लगाया है। हलांकि पुलिस के मुताबिक अभी तक किसी विशेष गैंग का नाम अपह्रत युवक के परिजनों ने नहीं बताया है फिर भी जंगलों में भी कॉम्बिंग की जा रही है।

जनपद के रैपुरा थाना क्षेत्र अंतर्गत खोर गांव से एक 22 वर्षीय युवक को बदमाश अगवा कर ले गए। घटना की जानकारी देते हुए रैपुरा थानाध्यक्ष सन्तशरण सिंह ने बताया कि खोर गांव के निवासी नमोनारायण गुप्ता के भाई दिलीप गुप्ता का अपहरण देर रात लगभग 2 बजे उस समय किया गया जब वह अपनी दुकान में सो रहा था। पुलिस के मुताबिक परिजनों ने बताया कि देर रात आधा दर्जन से अधिक हथियारबंद बदमाश आए और दिलीप को जगाते हुए जंगल की ओर ले गए। काफी देर तक जब दिलीप नहीं लौटा तो उन्हें अनहोनी की आशंका हुई।

आठ के खिलाफ नामजद एफआईआर

थानाध्यक्ष रैपुरा के मुताबिक अपह्रत युवक के परिजनों ने गांव के ही वीरेंद्र जगदीश ननकऊ सहित आठ लोगों के खिलाफ नामजद एफआईआर दर्ज कराई है। पुलिस के मुताबिक जो जानकारी अपह्रत के परिजनों से मिली है उसके अनुसार इन व्यक्तियों से उनकी पुरानी रंजिश है। सन् 2010 में इन्ही व्यक्तियों को दिलीप गुप्ता(अपह्रत युवक) के परिवार के एक अन्य सदस्य जितेंद्र गुप्ता के अपहरण के मामले में नामजद किया था और इन्हें सजा भी मुकर्रर हुई थी लेकिन आरोपियों की तरफ से हाईकोर्ट में अपील की गई जिसकी सुनवाई अभी जारी है। पीड़ित परिवार के मुताबिक इन्ही रंजिशों को लेकर एक बार फिर उनके परिवार के युवक का अपहरण किया गया है।

जंगलों में कॉम्बिंग

अपह्रत युवक के परिजनों ने अभी तक भले ही किसी गैंग का नाम न लिया हो पुलिस के मुताबिक परंतु पुलिस द्वारा जंगलों में की जा रही कॉम्बिंग कुछ दूसरा ही संकेत देती है। थानाध्यक्ष रैपुरा के मुताबिक थाना क्षेत्र के करका आश्रम के जंगल में कॉम्बिंग की गई कि यदि बदमाश उधर गए हों तो उन्हें ट्रेस किया जा सके। फ़िलहाल वारदात में अभी तक किसी विशेष दस्यु गिरोह का नाम नहीं आया है फिर भी हर बिंदुओं को ध्यान में रखकर मामले की छानबीन की जा रही है

आकांक्षा सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned