इधर आराम से हो रहा था पुलिसवालों का नाश्ता, उधर आरोपियों ने दिया ऐसा चकमा कि...

पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी गई है साथ ही सिपाही को प्रथम दृष्टया निलंबित किया गया है...

चित्रकूट. आरोपियों के साथ पेट पूजा करना खाकी के पहरेदारों को भारी पड़ गया और आरोपी चकमा देते हुए उनकी अभिरक्षा से फरार हो गए। फरारी की भनक लगने पर साथ में मौजूद होमगार्ड और सिपाही के होश उड़ गए और सुचना उच्चाधिकारियों को दी गई। मामले की जानकारी पर आस पास के इलाकों की घेरेबंदी करते हुए फरार हुए आरोपियों की तलाश जारी है। इधर विभाग ने कार्यवाही करते हुए सिपाही को निलम्बित कर दिया है।

 

मारपीट और शांति भंग के दोषी हैं दोनों आरोपी

जनपद के सीतापुर चौकी क्षेत्र अंतर्गत सेमरिया जग्गनाथ वासी गांव के दो सगे भाईयों कृष्ण कुमार त्रिपाठी और प्रभाकर त्रिपाठी का जमीन जायदाद के बंटवारे को लेकर विवाद चल रहा है। इसी विवाद के चलते पुलिस उन्हें मारपीट और शांतिभंग की धारा में निरुद्ध करते हुए गिरफ्तार करके मुख्यालय ले आई।

 

नाश्ते के दौरान हुए फरार

कोतवाली कर्वी में लिखा पढ़ी होने के बाद दोनों आरोपी भाईयों को सिपाही इन्द्रमणि और होमगार्ड राजेन्द्र प्रसाद की अभिरक्षा में एसडीएम कोर्ट भेजा गया। स्थानीय प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक तहसील कैंटीन में इस दौरान वे लोग नाश्ता करते देखे गए। कुछ देर बाद सिपाही और होमगार्ड को हैरान परेशान देखकर जब जानकारी ली गई तो पता चला कि उनके साथ दो आरोपी भाई भी थे जो मौका पाकर फरार हो गए। कैंटीन में उस समय आवाजाही करने वाले कुछ बाशिंदों ने बताया कि कुछ पुलिस वालों के साथ दो व्यक्ति हथकड़ी लगाए मौजूद थे, ऐसा माना जा रहा है कि नाश्ते के समय हथकड़ी खोल दी गई और मौका पाते ही दोनों आरोपी भाग निकले।

 

तलाश जारी

फरार आरोपियों की तलाश में आस पास के सीमावर्ती इलाकों में पुलिस की गश्त तेज की गई है साथ ही जिले से बाहर जाने वाले रास्तों पर भी कड़ी निगाह रखी जा रही है। एसपी मनोज कुमार झा का कहना है कि ड्यूटी में इस तरह की घोर लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी, पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी गई है साथ ही सिपाही को प्रथम दृष्टया निलंबित किया गया है। कैदी और आरोपी चाहे छोटा हो या बड़ा कानून की नजर में सब बराबर हैं।

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned