scriptज़िंदगी की जद्दोजहद में रोटी का जरिया है "महुआ" आदिवासी समुदाय के लिए वरदान से कम नहीं | tribal community chitrakoot bundelkhand | Patrika News

ज़िंदगी की जद्दोजहद में रोटी का जरिया है "महुआ" आदिवासी समुदाय के लिए वरदान से कम नहीं

आदिवासी समुदाय के लिए महुआ किसी वरदान से कम नहीं क्योंकि इसकी वजह से उनके पेट भरने का इंतजाम हो जाता है.

चित्रकूट

Published: April 19, 2020 01:22:04 pm

ज़िंदगी की जद्दोजहद में रोटी का जरिया है
ज़िंदगी की जद्दोजहद में रोटी का जरिया है

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Group Sites

Top Categories

Trending Topics

Trending Stories

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.