जागरूकता व सतर्कता को बनाया कोरोना से बचाव की ढाल

कोरोना संकटकाल में संक्रमण से बचने के लिए किस तरह सतर्कता व जागरूकता रखनी चाहिए इसके लिए तीन हजार से अधिक आबादी वाले जिंक नगर ने अनुकरणीय मिसाल पेश की। यहां के हर व्यक्ति ने कोरोना महामारी में सक्रिय योद्धा की भूमिका निभायी। ना सिर्फ व्यक्तिगत तौर पर हाइजिनए सोशल डिस्टेंसिंग और कोविड 19 से लडऩे में सरकार द्वारा दिये गये मापदंडों की पालना करने में अग्रणी रह कर अब तक संक्रमण से दूर रखा।

By: Nilesh Kumar Kathed

Published: 24 Jun 2020, 11:44 PM IST

चित्तौैडग़ढ़. कोरोना संकटकाल में संक्रमण से बचने के लिए किस तरह सतर्कता व जागरूकता रखनी चाहिए इसके लिए तीन हजार से अधिक आबादी वाले जिंक नगर ने अनुकरणीय मिसाल पेश की। यहां के हर व्यक्ति ने कोरोना महामारी में सक्रिय योद्धा की भूमिका निभायी। ना सिर्फ व्यक्तिगत तौर पर हाइजिनए सोशल डिस्टेंसिंग और कोविड 19 से लडऩे में सरकार द्वारा दिये गये मापदंडों की पालना करने में अग्रणी रह कर अब तक संक्रमण से दूर रखा। जरूरतमंद लोगो को सूखा राशनए पका हुआ भोजन और स्वप्रेरणा से मास्क बना कर उन्हें उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी भी जिं़क नगर के लोगों ने निभायी।

जिं़क नगर में 600 से अधिक घरों में बसे सभी लोगो ने कोराना वारियर की भूमिका निभातें हुए लॉकडाउन का पुरी तरह पालन किया। जिं़क नगर में प्रवेश के साथ ही हर व्यक्ति के टेम्परेंचर की जांच, मेडिकल टीम द्वारा प्रत्येक व्यक्ति का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। बाहर से आने जाने वाले की सूचना लेने, घर घर दैनिक आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति, नियमित रूप से कोरोना से बचाव के लिए जागरूक करने के लिए माइक से उद्घोषणा होती रही। मास्क और सैनेटाइजर, हाइपोक्लोराइट के उपयोग सहित अन्य सावधानी बरती गयी। हेड स्मेल्टर्स हेड पंकज शर्मा के निर्देशन में सुरक्षा एवं प्रशासन, मेडिकल, मानव संसाधन, सीएसआर टीमए स्वच्छता एवं रख रखाव, सिविल डिपार्टमेंट की टीम ने सभी सुविधाओं और सुरक्षा की जिम्मेदारी निभायी। किसी भी बाहरी व्यक्ति का कॉलोनी में आवागमन नहीं था। पुरी कॉलोनी और गाडियों का सेनेटाइजेशन किया जा रहा था। लॉकडाउन के दौरान किसी भी कर्मचारी को बाहर जाने और आने की अनुमति नहीं थी। अनलॉक के बाद भी बाहर से आने वालों को निश्चित अवधी के लिए क्वारंटीन किया गया। कॉलोनी में कोरोना के प्रति सभी का जागरूक करने के लिए अलग अलग आयु वर्ग की पेंटिंग और पोस्टर प्रतियोगिता का डिजिटलाइज आयोजन किया गया जिसमें 100 से अधिक बच्चों ने भाग लेकर अपनी कलात्मक सोच को उकेरा।
महिलाओं ने किया मास्क सिलाई का कार्य
ें जिं़क नगर की महिलाओं को प्रोत्साहित करने का जिम्मा लेडिज क्लब जिं़क नगर ने लिया। इस संकट में महिलाओं ने प्रतिदिन अपने घरेलू काम से समय निकाल कर शुरूआत में 50 से अधिक मास्क प्रतिदिन सिलाईं करने का कार्य प्रारंभ किया ताकि कॉलोनी निवासी और आस पास के ग्रामीण समुदाय के लोग सुरक्षित रह सकें। दूसरें को सुरक्षित रख कर स्वयं को सुरक्षित रखने की सोच ने हर व्यक्ति को सचैत किया और प्रतिदिन मास्क बनाने के साथ ही दूसरी किसी भी मदद के लिए भी सोच विचार करने लगे। आभा अग्रवाल, मोनिका जैन, पूनम शर्मा,सोनिया सिंघल,सुनिता सिंह, श्वेता वाली, बिना छिप, मनोरमा बाल्दी आदि ने मास्क बना कर जरूरत मंदो को पहुंचायें। निकिता सिंघल ने आगे बढ़ कर गर्मी के दौर में पशु पक्षियों को पानी और नियमित रूप से दाना खिलाया। जिं़क कॉलोनी के अमित सुराणा, लोकेश प्रजापति,आशीष गुप्ता, सौरभ सिंघल, प्रशांत तिवारीए, विशाल अग्रवाल ने गांवो में जरूरतमंद परिवारों को पखवाडें तक भोजन उपलब्ध कराने के लिए सुखा राशन और सेनेटाइजर उपलब्ध करायें।

समझाते रहे स्वच्छता व सुरक्षा का महत्व
लॉकडाउन के दौरान एस बीयू डायरेक्टर पंकज शर्मा ने संविदा श्रमिको से व्यक्तिगत संपर्क कर उन्हें हर संभव सहायत उपलब्ध कराई। वरिष्ठ प्रबंधन की टीम ने पुठोलीए मुंगा का खेड़ा कंथारिया, रूप पुरा बिलिया आदि गांवों में आवश्यक सुरक्षा पीपीई एवं सोशल डिस्टेंस की पालना करते हुए दौरा किया। ग्रामीण परिवारों, महिलाओं, एवं सरपंच से संपर्क कर उन्हें महामारी के समय में निराश न होने की प्रेरणा देते हुए नियमित रूप से मास्क पहननें, हाथों की साफ सफाई और स्वच्छता के बारें में अवगत कराने के साथ ही राशन किट,मास्क और हेण्ड ग्लोव्ज उपलब्ध कराये।

Nilesh Kumar Kathed
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned