scriptBengu MLA, who came in favor of the accused, got Gangrar police statio | आरोपी के पक्ष में उतरे बेंगू विधायक,गंगरार थानाप्रभारी को लाइन हाजिर करवा उनकी कुर्सी पर तीन घंटे जमे रहे | Patrika News

आरोपी के पक्ष में उतरे बेंगू विधायक,गंगरार थानाप्रभारी को लाइन हाजिर करवा उनकी कुर्सी पर तीन घंटे जमे रहे

चित्तौडग़ढ़ जिले के गंगरार में उस वक्त हंगामे की स्थिति हो गई जब विवादित सौ बीघा जमीन पर चारदीवारी बनाने गए भीलवाड़ा के राठी परिवार और पूर्व एएसपी को बेंगू विधायक राजेन्द्र विधूड़ी ने रोक दिया। विधायक ने मामले में गंगरार थानाप्रभारी को लाइन हाजिर करवा दिया। इसके बाद गंगरार थाने में उनकी सीट पर विधायक तीन घण्टे तक जमे रहे। इस दौरान डीएसपी और तहसीलदार को साइड में बैठना पड़ा। जिस के पक्ष में विधाायक गए वो इसी जमीन को हथियाने के मामले में फर्जीवाड़ा करने के आरोप में गिरफ्तार होकर जेल जा चुका है।

चित्तौड़गढ़

Published: August 22, 2021 03:27:24 pm

चित्तौडग़ढ़.
घटनाक्रम से चित्तौडग़ढ़ और भीलवाड़ा में चर्चा का विषय रहा। घटनाक्रम मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के संज्ञान में भी लाया गया है। गंगरार थाना पुलिस ने जो व्यक्ति गिरफ्तार होकर जेल गया उसी कर रिपोर्ट पर जमीन में अनाधिकृत प्रवेश करके चार दीवारी बनाने और धमकी देने जैसी विभिन्न धाराआें में पूर्व एएसपी समेत कुछ लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया।
जानकारी के अनुसार लाडूपुरा उर्फ लोड़ी खेड़ा (गंगरार) निवासी रतनलाल जाट ने मामला दर्ज कराया। परिवादी ने बताया कि भीलवाड़ा राकेश राठी, पूर्व एएसपी पूरणसिंह भाटी समेत चार-पांच जनें अनाधिकृत रूप से गंगरार में उसकी जमीन पर पहुंचे। वहां धमका कर चारदीवारी बनाने लगे। इसकी जानकारी रतनलाल ने बेंगू विधायक राजेन्द्र विधूड़ी को दी। संयोगवश किसी उद्घाटन कार्यक्रम में वहां से निकल रहे विधूड़ी मौके पर पहुंच गए। उन्होंने चारदीवारी बनाने से रोक दिया। इससे वहां हंगामा खड़ा हो गया। उन्होंने चारदीवारी के लिए बनाई गई बाउण्ड्री को तुड़वा दिया। माहौल गरमाने पर गंगरार पुलिस पूर्व एएसपी और राकेश समेत कुछ लोगों को थाने पर लेकर पहुंची। विधायक भी थाने पहुंचे। उन्होंने तत्काल चित्तौडग़ढ़ पुलिस अधीक्षक राजेन्द्र गोयल से बात कर गंगरार थानाप्रभारी शिवराज गुर्जर को लाइन हाजिर करवा दिया। विधायक थानाप्रभारी की कुर्सी पर बैठ गए। वहां पहुंचे डीएसपी कमल प्रसाद जांगिड़ और तहसीलदार नरेश गुर्जर को साइड में बैठना पड़ा। चार घण्टे तक थाने पर हंगामे की स्थिति रही। पुलिस ने रतनलाल की रिपोर्ट पर मामला दर्ज किया। यह मामला मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के प्रसंज्ञान में भी लाया गया।
आरोपी के पक्ष में उतरे बेंगू विधायक,गंगरार थानाप्रभारी को लाइन हाजिर करवा उनकी कुर्सी पर तीन घंटे जमे रहे
आरोपी के पक्ष में उतरे बेंगू विधायक,गंगरार थानाप्रभारी को लाइन हाजिर करवा उनकी कुर्सी पर तीन घंटे जमे रहे
डेढ़ साल पूर्व परिवादी रतन हो चुका गिरफ्तार
डेढ़ साल पूर्व परिवादी रतनलाल ही जमीन के फर्जी कागजात बनाने और नामांतरण अपने नाम करवाने के आरोप में गिरफ्तार किया। बताया जाता है कि मामला भीलवाड़ा के प्रतिष्ठित मानसिंहका परिवार से जुड़ा हुआ है। परिवार की गंगरार में करीब सौ बीघा जमीन है। जहां किसी समय इनकी मनोहर कॉटन के नाम से फैक्ट्री संचालित होती थी। जमीन के गंगरार तहसील में कार्यरत चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी थावरचंद मीणा ने कूट रचित दस्तावेज तैयार कर नामांतरण संख्या 1638 को फर्जी तरीके से तैयार कर तहसीलदार के फर्जी हस्ताक्षर व मुहर से मनोहर कॉटन मील का नामांतरण अपने नाम करवा लिया। इस संबंध में गंगरार के तत्कालीन तहसीलदार ओमपालसिंह चारण व राजस्व निरीक्षक उदयलाल भील ने गंगरार थाने में मामला दर्ज कराया था। गंगरार पुलिस ने 13 दिसंबर 2019 को लाडूपुरा निवासी रतनलाल पुत्र परथू जाट, गणेशपुरा निवासी उदयलाल पुत्र मोहनलाल गाडरी तथा सुवाणिया निवासी रामलाल मेनारिया को गिरफ्तार किया था। जिन्हें न्यायालय ने जेल भेजा था। इसी मामले में पुलिस ने बाद में परथू जाट, थावरचंद मीणा को भी गिरफ्तार किया था। गंगरार के तहसीलदार व कार्यवाहक उपखण्ड अधिकारी नरेश गुर्जर ने बताया कि जिस जमीन पर बाउण्ड्री बनाई जा रही थी। उस जमीन पर न्यायालय का कोई स्थगन आदेश नहीं है।
जो आरोपी जेल गया, उसी की रिपोर्ट पर दर्ज कर लिया मामला
पुलिस शनिवार को पूरी तरह विधायक राजेन्द्रसिंह विधूड़ी के दबाव में काम करती नजर आई। जिस रतनलाल जाट को इसी जमीन के मामले में फर्जी दस्तावेज तैयार करने के आरोप में पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भिजवाया था, उसी आरोपी लाडूपुरा निवासी रतनलाल पुत्र परथू जाट की रिपोर्ट पर सेवानिवृत अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पूरणसिंह व राकेश के खिलाफ गंगरार थाना पुलिस ने प्रकरण दर्ज कर लिया।
मुख्यमंत्री तक पहुंचा मामला
गंगरार क्षेत्र की मनोहर कॉटन मील की करीब सौ बीघा जमीन की फाइल सीएमओ में है और शनिवार को बेगूं विधायक राजेन्द्र सिंह विधूड़ी की मौजूदगी में गंगरार थाने में हुए घटनाक्रम को लेकर बात मुख्यमंत्री तक पहुंची है।
सेवानिवृत एएसपी को किया पांबद
मौके पर बाउण्ड्री का काम करवा रहे सेवानिवृत अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पूरणसिंह व राकेश को थाने लाया गया, जिन्हें धारा १०७ के तहत पाबंद किया गया।

नहीं है कोई स्टे
गंगरार के तहसीलदार व कार्यवाहक उपखण्ड अधिकारी नरेश गुर्जर ने बताया कि जिस जमीन पर बाउण्ड्री बनाई जा रही थी, उस जमीन पर न्यायालय का कोई स्थगन आदेश नहीं है।
यह दर्ज कराई रिपोर्ट
रतनलाल जाट की ओर से थाने में दी रिपोर्ट में बताया गया कि पटवार हलका गंगरार में उसके पिता प्रभू पुत्र भूरा जाट ने ८ सितंबर १९८१ को रजिस्टर्ड विक्रय पत्र के जरिए जमीन खरीदी थी। जमीन खरीदने के बाद प्रार्थी के पिता प्रथू जाट आपराधिक प्रकरण में २ जून १९८२ को जेल चले गए थे। जिसके बाद प्रकरण में उन्हें दस साल की सजा हो गई। इसलिए जमीन का इंतकाल नहीं खुल पाया। प्रार्थी का इस जमीन पर कब्जा चला आ रहा था। चार जून २०१६ को प्रार्थी के पिता की मृत्यु हो गई। रिपोर्ट में बताया कि प्रार्थी ने २४ अप्रेल २०१९ को राजस्व वाद उपखण्ड न्यायालय गंगरार में पेश किया था, जो विचाराधीन है। रिपोर्ट में बताया कि पूरणसिंह व राकेश प्रार्थी की जमीन पर अनाधिकृत प्रवेश कर खुदबुर्द किया जा रहा है। २१ अगस्त को सुबह ये लोग जमीन पर कब्जा कर रहे थे। इस संबंध में विधायक राजेन्द्रसिंह विधूड़ी को अवतगत कराया तो वे मौके पर पहुंचे। आरोपियों को कब्जा करने से मना करने पर प्रार्थी के साथ मारपीट की। पुलिस ने राकेश राठी के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर अनुसंधान शुरू किया है।
उद्घाटन करने जा रहा था
मैं उद्घाटन करने जा रहा था, उसी दौरान विधानसभा क्षेत्र से जाट समाज के कुछ लोगा आए और कहा कि हमारी जमीन पर भीलवाड़ा से आए कुछ लोग कब्जा कर रहे है। मैने थानेदार को फोन किया। तहसीलदार को फोन किया। तहसीलदार मौके पर पहुंचे। बाद में मैं मौके पर पहुंचा और वहां मौजूद लोगों से मैने जमीन के कागज मांगे तो वे कागज नहीं दे पाए। गरीब आदमी की जमीन हड़पने की कोशिश की जा रही थी। इसका मामला एसडीएम कोर्ट में विचाराधीन है।
राजेन्द्रसिंह विधूड़ी, विधायक
दबाव में आकर नहीं किया तबादला
गंगरार थाना प्रभारी का तबादला किसी भी दबाव में आकर नहीं किया गया है। प्रशासनिक आधार पर ही तबादला किया है।
राजेन्द्र प्रसाद गोयल, पुलिस अधीक्षक चित्तौडग़ढ़

पाबंद किया गया है
जमीन विवाद को लेकर किसी को भी गिरफ्तार नहीं किया है। पूरणसिंह व राकेश राठी को पाबंद किया गया है।
कमल प्रसाद जांगिड़, पुलिस उप अधीक्षक गंगरार

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कोरोना: शनिवार रात्री से शुरू हुआ 30 घंटे का जन अनुशासन कफ्र्यूशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेCM गहलोत ने लापरवाही करने वालों को चेताया, ओमिक्रॉन को हल्के में नहीं लें2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव

बड़ी खबरें

World Economic Forum 2022: दावोस एजेंडा के शिखर सम्मेलन में बोले पीएम मोदी, भारत बना दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा फार्मा प्रोड्यूसरयूएई के अबू धाबी एयरपोर्ट पर बड़ा हमला, दो भारतीयों समेत तीन की मौतवैक्सीनेशन को लेकर बड़ा ऐलान, 12 से 14 साल तक के बच्चों को मार्च से लगेंगे टीकेPunjab Election 2022: पंजाब में चुनाव की तारीख टली, अब 20 फरवरी को होगी वोटिंग'किसी को जबरदस्ती नहीं लगाई कोरोना वैक्सीन ', केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट में बतायाविधायक ने खड़े होकर कराई सड़कों की जांच, नमूने रखवा दिए एसडीएम ऑफिस मेंआखिर क्या है दलबदल कानून और क्यों पड़ी इसकी जरूरत, जानिए सब कुछऐसा क्या हुआ की सीएम योगी आदित्यनाथ का यह कैबिनेट मंत्री वर्षों बाद अचानक छानने लगे जलेबी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.