नहीं लौट पाई मुख्य बाजारों की रौनक

कफ्र्यू में राहत देने के दूसरे दिन भी नगर के मुख्य बाजार बन्द रहने से नगर की रौनक नही लौट पाई। नगर के भीतरी भाग के बन्द रहने से राहत का असर कम दिखाई दिया हालांकि बाहरी इलाके में दुकानें खुलने से आमजन अपनी खरीददारी करने के लिए घूमते नजर आए। दैनिक उपभोग की वस्तुओं के अलावा सब्जी फल के ठेलों पर लोगो की आवाजाही ज्यादा नजर आई। प्रताप सर्कल के समीप सब्जी व फल के ठेलों पर जमकर खरीददारी हुई।

By: Nilesh Kumar Kathed

Published: 30 May 2020, 11:58 PM IST

चित्तौडग़ढ़/ निम्बाहेड़ा. कफ्र्यू में राहत देने के दूसरे दिन भी नगर के मुख्य बाजार बन्द रहने से नगर की रौनक नही लौट पाई। नगर के भीतरी भाग के बन्द रहने से राहत का असर कम दिखाई दिया हालांकि बाहरी इलाके में दुकानें खुलने से आमजन अपनी खरीददारी करने के लिए घूमते नजर आए। दैनिक उपभोग की वस्तुओं के अलावा सब्जी फल के ठेलों पर लोगो की आवाजाही ज्यादा नजर आई। प्रताप सर्कल के समीप सब्जी व फल के ठेलों पर जमकर खरीददारी हुई। नगर के 25 वार्र्डो में कफ्र्यू में छूट के बाद प्रशासन ने लगातार दूसरे दिन भी सख्ती बरतते हुवे नगर के भीतरी भाग में कई जगहों पर गलियों पर बेरिकेड्स लगाकर आवाजाही रोकने का प्रयास किया। फिर भी कंटेन्मेंट एरिया के कई लोग अन्य रास्तों से बाजारों मे आ गए ओर अपने प्रतिष्ठान व व्यवसाय करते दिखाई दिए।कफ्र्यूग्रस्त इलाको में दुकान प्रतिष्ठान बंद होने के बावजूद एक दुकान से व्यापारी द्वारा अपना सामान दूसरी जगह टेम्पो के माध्यम से शिफ्ट किया गया।
बंद कराने पर दुकानदारों ने जताया विरोध
शेखावत सर्कल पर छोटीसादड़ी रोड़ पर खुली दुकानों को पुलिस द्वारा बन्द कराने पर कुछ दुकानदारों ने विरोध किया। पुलिस के अनुसार यह इलाका कफ्र्यूग्रस्त एरिया में आता है इसलिए बन्द करवाया जा रहा है जबकि उसी जगह के कुछ आगे जो इसी इलाके में आता है वहाँ दुकान खुली हुई थी जिनको पुलिस द्वारा बन्द नही कराया गया जिसको लेकर दुकानदारों ने नाराजगी व्यक्त की।
निम्बाहेड़ा में अब कोई एक्टिव केस नहीं
नगर के सभी कोरोना मरीजों के स्वस्थ होने पर प्रशासन ने राहत की सांस ली पीएमओ डॉ मन्सूर खान के अनुसार 162 में से 2 की मृत्यु हो जाने से बाकी के 160 ही व्यक्ति स्वस्थ हो गए है वर्तमान में एक भी केस एक्टिव नही है और निम्बाहेड़ा कोरोना से मुक्त हो चुका हैए कोरोना मुक्त होने से प्रशासन भी चिंतामुक्त हुवा है ऐसे में एक या दो दिन बाद प्रशासन द्वारा कफ्र्यू में राहत भी दी जा सकती है जिससे जनजीवन सामान्य हो सके।

Nilesh Kumar Kathed Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned