बाल कल्याण समिति ने बालिका को लौटाई जीवन की खुशियां

माता-पिता की मारपीट से दु:खी होकर गुजरात से चित्तौडग़ढ़ पहुंची रोती-बिलखती बालिका के जीवन में आखिर उस समय खुशियां लौट आई, जब बाल कल्याण समिति ने बच्ची को पुनर्वास के लिए बाल कल्याण समिति दाहोद को सौंप दिया।

By: jitender saran

Published: 09 Jun 2021, 12:20 PM IST

चित्तौडग़ढ़
माता-पिता की मारपीट से दु:खी होकर गुजरात से चित्तौडग़ढ़ पहुंची रोती-बिलखती बालिका के जीवन में आखिर उस समय खुशियां लौट आई, जब बाल कल्याण समिति ने बच्ची को पुनर्वास के लिए बाल कल्याण समिति दाहोद को सौंप दिया।
जानकारी के अनुसार करीब एक बजे चित्तौडग़ढ़ के रेलवे स्टेशन पर एक बालिका रोती हुई मिले, जिसे चाइल्ड लाइन व सदर थाना पुलिस ने दस्तयाब कर रात्रि में ही बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष रमेशचन्द्र दशोरा, सदस्य मंजू जैन के समक्ष पेश किया। समिति ने बालिका को पूछताछ के बाद क्वारंटीन कर दिया। सुबह उसकी काउंसलिंग करवाई गई। इस दौरान बालिका ने बताया कि माता-पिता उसके साथ मारपीट करते हैं, इसलिए वह दु:खी होकर घर से पलायन करते हुए ट्रेन में बैठकर अजनान शहर चित्तौडग़ढ़ पहुंच गई। इसके बाद समिति ने गुजरात की दाहोद पुलिस से संपर्क किया। वहां से हेड कांस्टेबल गुणवंत सिंह व महिला सिपाही सैजल ने रात्रि में ही बालिका के परिजनों से संपर्क किया और उन्हें लेकर बाल कल्याण समिति चित्तौडग़ढ़ के समक्ष उपस्थित हुए। समिति ने पुलिसकर्मियों और परिजनों के साथ बालिका को किशोर न्याय अधिनियम के प्रावधानों के तहत आदेश देते हुए बाल कल्याण समिति दाहोद को स्थानांतरित कर दिया। बालिका के पुनर्वास की कार्रवाई करने के आदेश दिए गए है।

jitender saran Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned