चित्तौड़ डेयरी टैंकर ठेकेदारों से करेगी 38 लाख से ज्यादा की वसूली

चित्तौडग़ढ़-प्रतापगढ़ दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ ने बीएमसी दुग्ध परिवहन करने वाले टैंकर ठेकेदारों से 38 लाख रूपए से ज्यादा की राशि वसूल करने को लेकर कवायद शुरू कर दी है।

By: jitender saran

Published: 27 Jun 2021, 11:40 AM IST

चित्तौडग़ढ़
जानकारी के अनुसार बीएमसी दुग्ध परिवहन टैंकर ठेकेदारों द्वारा दुग्ध परिवहन करने के दौरान डेयरी को फैट और एसएनएफ का नुकसान हुआ है। यह नुकसान भी इतना अधिक हुआ है कि दुग्ध परिवहन बिलों से कटौती करने के बावजूद ३८ लाख रूपए से अधिक राशि ठेकेदारों में बकाया चल रही है। डेयरी के प्रबंध संचालक नटवरसिंह ने चार दिन पहले १९ जून को ही इस वसूली को लेकर कार्यालय आदेश जारी किया है। दुग्ध परिवहन ठेकेदारों को कहा गया है कि वे सात दिन के भीतर संघ में राशि जमा करवाना सुनिश्चित करें अन्यथा अनुबंध निरस्त करने, टेण्डर शर्त के अनुसार कार्रवाई की जाएगी, जिसके लिए टैंकर ठेकेदार खुद जिम्मेदार होंगे।

सख्ती हुई तो खुलने लगी पोल
डेयरी में नए अध्यक्ष बद्रीलाल जगपुरा ने कार्यभार ग्रहण करने के बाद दूध की आवक से लेकर सप्लाई होने तक की प्रक्रिया का पूरा अध्ययन किया तो पूर्व के वर्षों में हुई कई गड़बडिय़ां सामने आ गई। इसके बाद जगपुरा ने सख्ती बरतते हुए प्लांट में हर हिसाब-किताब साफ-सुथरा रखने की संबंधित कार्मिकों को हिदायत दी। अब डेयरी में आने वाले दूध की फैट, वजन और तापमान को लेकर पूरी सतर्कता बरती जा रही है। जगपुरा की ओर से डेयरी और किसानों के हित में बरती जा रही सख्ती को लेकर ठेकेदारों में हड़कंप मचा हुआ है।

डेयरी में एमडी सहित सिर्फ छह कार्मिक
जानकारी मिली है कि डेयरी में प्रबंध संचालक सहित सिर्फ छह कार्मिक ही स्थायी है। शेष सभी ठेके पर काम कर रहे हैं। ठेके पर काम करने वाले कार्मिकों की संख्या स्वीकृत पदों से कई गुना ज्यादा है, ऐसे में अब अधिशेष ठेकाकर्मियों को हटाने की भी तैयारी चल रही है। सूत्रों की मानें तो राजनीतिक सिफारिशों के चलते डेयरी में आवश्यकता से अधिक ठेकाकर्मी लगा दिए गए थे। डेयरी में सत्ता परिवर्तन हुई तो कई ठेकाकर्मी अधिशेष होने की जानकारियां सामने आई।

गड़बडिय़ों को रोकने के होंगे प्रयास
डेयरी में पिछले समय में हुई गड़बडिय़ों की समीक्षा की जाएगी और इन्हें रोकने के प्रयास किए जाएंगे। अभी डेयरी प्लांट में लैब में स्टाफ बदल दिया गया है। स्वीकृत पदों के मुकाबले काम कर रहे अधिशेष ठेका कर्मियों को भी हटाया जाएगा। २३ जून को डेयरी संचालक मण्डल की बैठक होने जा रही है, जिसमें कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर विचार-विमर्श कर निर्णय किए जाएंगे।
बद्रीलाल जगपुरा
अध्यक्ष, चित्तौडग़ढ़-प्रतापगढ़ दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ चित्तौडग़ढ़

jitender saran Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned